नारायणपुर। छत्तीसगढ़ के सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिले नाराणपुर में गुरुवार की सुबह मतदान से ठीक पहले नक्सलियों ने ग्रामीणों में दहशत फैलाने और पोलिंग पार्टी को निशाना बनाने के लिए आइईडी ब्लास्ट किया था। इस वक्त पोलिंग पार्टियां इस रास्ते से गुजर रही थीं, लेकिन दल आइईडी की चपेट में आने से बाल-बाल बच गया। नक्सलियों ने ब्लास्ट फरसगांव के छिनारी मतदान केंद्र के पास किया था।

सुबह 4 बजे हुई इस घटना के बाद सुरक्षा बल पूरी तरह मुस्तैदी के साथ यहां डटे हुए हैं। सुरक्षा बलों की मौजूदगी ने यहां दहशत का माहौल खत्म कर दिया है और जवानों के भरोसे पर गांव वाले बिल्कुल निर्भिक होकर मतदान के लिए निकल रहे हैं।

अबूझमाढ़ के इस इलाके को नक्सलियों का गढ़ माना जाता है, बावजूद इसके यहां के लोग लोकतंत्र के प्रति आस्था दिखाते हुए अपने वोट के साथ नक्सलियों के मंसूबे को मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सर्वाधिक संवेदनशील माने जाने वाले कई पोलिंग बूथ में शुरूआती दो घंटों में ही करीब 15 फीसद मतदान हुआ।