कोरबा। नईदुनिया प्रतिनिधि

चुनावी वर्ष 2013 से लेकर 2018 के बीच पांच साल के अंतराल में 59 हजार 565 मतदाताओं में इजापᆬा हुआ है। 22 हजार 185 पुरुष मतदाताओं में बढ़ोतरी हुई है, वहीं पिछले चुनाव की अपेक्षा 37 हजार 349 महिलाएं मतदाता सूची में बढ़ गई हैं। पुरुषों की अपेक्षा 15 हजार 164 महिला मतदाता में अधिक वृद्धि हुई है। चारों विधानसभा में सबसे अधिक कोरबा विधानसभा में 16 हजार 589 मतदाताओं की बढ़ोतरी हुई है।

विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जहां प्रत्याशियों की नजर एक-एक मत पर लगी हुई है, वहीं निर्वाचन विभाग की ओर से अधिक से अधिक मतदान के लिए अभियान चलाया जा रहा है। पिछले व वर्तमान जारी चुनाव की मतदाता सूची का अवलोकन किया जाए, तो महिला मतदाताओं में जबर्दस्त बढ़ोतरी हुई है। यहां तक पुरुषों की तुलना में महिलाएं संख्यात्मक रूप में आगे हैं। महिला मतदाताओं का बढ़ना उनके साक्षरता दर में हुई बढ़ोतरी की बदौलत संभव हुई है। प्रत्याशियों को अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए आधी आबादी यानी महिला मतदाताओं को साथ लेकर चलना होगा। मतदाताओं की संख्या में इजापᆬा पर गौर किया जाए तो ग्रामीण की अपेक्षा शहरी क्षेत्र से जुड़े कोरबा विधानसभा में सबसे अधिक बढ़ोतरी हुई है। वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव में यहां मतदाताओं की तादात दो लाख नौ हजार 200 थे, वहीं 2018 में दो लाख 25 हजार 789 है। बढ़त मतदाताओं में ऐसे भी मतदाता हैं जिनका पहले गांव की मतदाता सूची में नाम शामिल था, शहर में शामिल हैं। पांच साल के भीतर गांव से शहर आने वालों की तादाद बढ़ने से शहरी क्षेत्र की सूची में मतदाताओं का इजापᆬा हुआ है। यहां भी महिलाओं की ही संख्या अधिक है। महिलाओं की भागीदारी को उपेक्षित करना प्रत्याशियों के लिए हार का सबब साबित हो सकता है।

बाक्स

रामपुर में महिलाओं की तादाद अधिक

जिले के दीगर विधानसभा क्षेत्र में जहां महिला मतदाताओं का अनुपात पुरुषों की अपेक्षा कम है, वहीं रामपुर एकमात्र विधानसभा क्षेत्र है जहां महिला मतदाता पुरुषों से अधिक हैं। महिला-पुरुष के बीच अनुपातिक अंतराल सबसे अधिक शहरी क्षेत्र में है। साक्षरता दर में अन्य विधानसभा क्षेत्र से आगे होने के बाद भी महिला मतदाताओं का कम होना इस बात को साबित करता है कि शहरी क्षेत्र की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्र में लिंगभेद की स्थिति कम है। रामपुर में पुरुष मतदाताओं की तादाद वर्तमान में एक लाख 27 है, वहीं महिला मतदाता एक लाख एक हजार 365 है।

बाक्स

महिला उम्मीदवारी की अनदेखी

महिला मतदाताओं की संख्या में हुई बढ़ोतरी के बाद भी उनकी उम्मीदवारी को राष्ट्रीय दलों की ओर से उपेक्षित की गई है। चारों विधानसभा से 45 उम्मीदवार चुनाव मैदान में है। इनमें केवल तीन महिला उम्मीदवार शामिल हैं। राष्ट्रीय राजनैतिक दलों की ओर से किसी भी दल ने महिला प्रत्याशी को प्रतिनिधित्व नहीं दिया है। विधानसभा के अस्तित्व में आने के बाद महिला मतदाताओं में लगातार बढ़ोतरी हुई है, वहीं मतदान पᆬीसदी में महिला मतदाताओं की उपस्थिति पुरुषों से बेहतर रही है। आगामी चुनाव में उनकी उपस्थिति बेहतर होने की संभावना है।

बाक्स

पांच साल के तुलनात्मक आंकड़े

विधानसभावर्ष 2013वर्ष 2018बढ़त

रामपुर186772-201393-14621

कोरबा209200-225789-16589

कटघोरा184008-197485-13477

पाली-तानाखार197369-212247-14878

----------------------