बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

निजी स्कूलों द्वारा मनमानी फीस वृद्धि के खिलाफ अभिभावक लामबंद हो गए हैं। आंदोलन को नई दिशा देते हुए विभिन्न सरकारी कार्यालयों में पर्चे बांटकर समर्थन मांगने का निर्णय लिया गया है। वहीं बुधवार को सर्व अभिभावक संघ ने सरकंडा परिक्षेत्र में पर्चे बांटे।

संघ ने बुधवार की शाम छह बजे तिलक नगर स्थित कोन्हेर गार्डन में बैठक बुलाई। इसमें सभी निजी स्कूलों के अभिभावक शामिल हुए। यहां अभिभावकों का कहना था कि एकजुट होकर ही स्कूलों की मनमानी फीस वसूली को रोका जा सकता है। स्कूल में वार्षिक फीस के साथ री-एडमिशन फीस, बिल्डिंग फंड, डेवलपमेंट फंड, लाइब्रेरी फीस, डायरेक्टर फंड के साथ किसी न किसी बहाने हजारों रुपये वसूल किए जा रहे हैं। इससे अभिभावक परेशान हैं। ऐसी मनमानी फीस वसूली को समाप्त करना जरूरी है। अभिभावकों ने निर्णय लिया है कि अब घरों के अलावा सरकारी कार्यालय में पर्चा बांट कर लोगों का समर्थन लिया जाएगा। गुरुवार से सभी सरकारी कार्यालयों में कलेक्टोरेट, शिक्षा विभाग, पुलिस थाने, न्यायालय समेत अन्य जगह पर्चे बांटकर निजी स्कूल की मनमानी फीस बढ़ोतरी की पोल खोली जाएगी। बैठक में मौजूद 12 बड़े निजी स्कूल के अभिभावकों ने स्कूलों की मनमानी पर लगाम लगने तक आंदोलन करने का निर्णय लिया।

फीस नियामक आयोग के गठन की मांग

सर्व अभिभावक संघ का कहना है कि निजी स्कूलों पर लगाम लगाने के लिए फीस नियामक आयोग का गठन किया जाना चाहिए। इसके माध्यम से निर्धारित किया जाए कि किस कक्षा के लिए कितनी फीस ली जानी है। नियामक आयोग बनने पर ही फीस को लेकर स्कूलों की मनमानी रुक पाएगी।

ड्रेस व किताब-कॉपी के नाम पर बंद हो लूट

अभिभावकों का कहना है कि स्कूल अपनी बताई गई दुकान से ही पुस्तक-कापी, ड्रेस व अन्य सामान खरीदने को मजबूर करते हैं। किसी अन्य जगह से खरीदी करने पर सामान को अमान्य कर दिया जाता है। इस तरह की बाध्यता खत्म होनी चाहिए।

लोयला के खिलाफ कलेक्टर को ज्ञापन

लोयला स्कूल के अभिभावक संघ ने बुधवार को फीस बढ़ोतरी के खिलाफ कलेक्टर संजय अलंग को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान अभिभावकों ने मनमाने ढंग से विकास शुल्क बढ़ाने, एक्टिविटीज के नाम पर फीस लेने, खास दुकान से पुस्तक-कॉपी खरीदने को मजबूर करने, प्रतिवर्ष पुस्तक बदलने, नए विषय जोड़कर फीस वसूली करने के संबंधी शिकायत की है।

शिक्षामंत्री को ट्वीट, मंत्री जी ने किया लाइक

सर्व अभिभावक संघ ने स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम को ट्वीट करते हुए निजी स्कूलोंकी मनमानी फीस बढ़ोतरी पर लगाम लगाने की मांग रखी है। इस ट्वीट को उन्होंने लाइक किया है। हालांकि उन्होंने कोई रिप्लाई नहीं किया है। इसके अलावा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को भी ट्वीट कर समस्या की जानकारी दी गई है।

पांच हजार पर्चे और छपवाए

सर्व अभिभावक संघ ने निजी स्कूलों की पोल खोलने के लिए अब तब 10 हजार से ज्यादा पर्चे बांटे हैं। वहीं आंदोलन को तेज करने के लिए अब पांच हजार पर्चे और छपवाए गए हैं। इन्हें सरकारी कार्यालयों में बांटा जाएगा।