रायगढ़ । खरसिया के बहुचर्चित अर्जुन रोहड़ा मर्डर केस में सभी 12 आरोपितों को आजीवन कारावास की सजा निरोपित किया गया है। अप्रत्याशित तरीके से मारपीट से जिला दहल गया था। आरोपियों ने कपड़ा व्यापारी को पीटकर गंभीर रूप से घायल कर दिया था। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। आरोपित विद्यानंद राठौर, राजेश राठौर, रामभगत राठौर, द्रोण राठौर, युगांश राठौर, राजेश कुर्रे, राजकुमार सिदार, युद्धिष्ठिर राठौर, भोला निषाद, गोपाल निषाद, विक्की सिंह व प्रशांत राठौर के खिलाफ पुलिस ने धारा 458, 147, 148, 294, 506 बी, 302 व 149 के तहत मामला दर्ज किया था।

जानकारी के अनुसार अर्जुन रोहडा की कपडे की दुकान खरसिया मंगल बाजार में हैं । सापिया निवासी विद्यानंद राठौर ने एक पेंट व शर्ट खरीदी, उसी शाम कपडा पंसद नहीं है कहकर शर्ट वापस कर पैसे की मांगा की। जिस पर अर्जुन ने सामान के बदले पैसे नहीं देने की बात कहते हुए दूसरा कपड़ा पंसद करने कहा। इससे विद्यानंद नाराज हो गया और आठ दस साथियों के साथ दुकान में घुसकर लाठी डंडे से से अर्जुन की पिटाई कर दी।

आरोपितों ने दुकान में एलईडी टीवी, कुर्सी आदि को तोड़ा। इसकी रिपोर्ट स्वयं अर्जुन ने थाने में दर्ज करायी। इसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया , जहां उसकी मौत हो गई । मामला खरसिया में प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट की आदालत में पेश किया गया। जहां से पंचम अपर सत्र न्यायाधीश आदित्य जोशी के 11 गवाहोंं के प्रतिपरिक्षण के पश्चात अभियुक्तों पर दोष सिध्द पाया।

लालखदान गोलीकांड के हत्यारे को उम्रकैद

न्यायालय ने लालखदान में भाजपा नेता के जन्मदिन की पार्टी में गोली मारकर युवक की हत्या करने के आरोपित को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। वहीं आरोपित को पिस्टल उपलब्ध कराने वाले आदतन बदमाश को पांच वर्ष कैद की सजा हुई है। चार मार्च 2018 को लालखदान रेलवे फाटक के पास भाजपा नेता का जन्मदिन मनाने की तैयारी की गई थी।

महमंद निवासी दुर्गेश सूर्यवंशी पिता स्व. रामाधार सूर्यवंशी इस पार्टी में शामिल होने आया था। शाम 6.15 बजे लालखदान के रामबचन ठाकुर उर्फ गुड्डा पिता रूपसिंह (42) ने बिल्लू श्रीवास उर्फ सुनील श्रीवास पिता बाबूलाल (40) से पिस्टल लेकर दुर्गेश के सीने में गोली मार दी। पार्टी में आए अन्य लोग उसे उपचार के लिए अपोलो अस्पताल लेकर गए। वहां जांच उपरांत डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।