रायगढ़। नईदुनिया प्रतिनिधि

मालधक्का रोड स्थित अंडरग्राउण्ड पुल में हर दिन ट्रैफिक जाम हो रहा है। इस पुल के भीतर से आटो वाहनों के गुजरने के कारण लोगों को परेशानियों से जूझना पड़ रहा है। इसकी जानकारी ट्रैफिक अमले को भी है, लेकिन आटो वाहनों की यहां रोक लगाने के लिए विभाग की ओर से कुछ भी नहीं किया जा रहा है।

रेलवे और निगम के बीच में फंसी अडंरग्राउण्ड पुल में आए दिन कई प्रकार की समस्याएं देखने को मिलती है। बारिश के दिनों में जहां नाले का गंदा पानी पुल के भीतर बहता है, तो उसकी सफाई को लेकर रेलवे व निगम के कर्मचारी असमंजस की स्थिति में रहते हैं। वहीं दूसरी ओर पूरे साल भर यहां ट्रैफिक जाम की समस्या यहां मुख्य है। इस पुल के भीतर से प्रतिदिन हजारों लोग गुजरते हैं और यह मार्ग चार पहिया के लिए प्रतिबंध है, लेकिन आटो वाहनों के गुजरने के कारण यहां जाम की स्थिति निर्मित हो रही है।

हर दिन इस समस्या को लेकर लोग परेशान हैं। यही नहीं पूर्व में मौखिक एवं लिखित रूप से निगम के अधिकारियों को कई दफे इसकी जानकारी दी गई है वही यातायात पुलिस को भी इसकी जानकारी है, लेकिन इसके बाद भी लोगों की समस्याओं को कम करने के बजाए अधिकारी सिर्फ कंबल ओढ़ कर घी पीने में मस्त हैं और कार्रवाई को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

चार पहिया वाहन रोक लगाने खम्बे का सहारा

क्षेत्रवासियों ने बताया कि पूर्व में यहां से चार पहिया वाहन भी गुजरते थे। ऐसे में पुल के भीतर जाम हो जाता था, लेकिन पुल के बाहर दोनों ओर एक-एक लोहे का खंभा लगाकर चार पहिया वाहनों पर यहां प्रतिबंध लगा दिया गया। इसके बाद चार पहिया वाहनों का तो इस पुल से गुजरना बंद हो गया, पर आटो वाहनों की रेलमपेल यहां शुरू हो गई। अेसे में जब दोनों ओर से आटो वाहन इस पुल से गुजरती है, तो यहां दूसरे वाहनों के आने-जाने के लिए जगह नहीं बचता है और इस रोड पर कई घंटो के लिए जाम हो जाता है।

दिन भर रहता है वाहनों का रेला लगता है जाम

क्षेत्रवासियों ने बताया कि जाम की सबसे अधिक समस्या सुबह से लेकर देर रात यहां हर पांच मिनट में जाम की समस्या बनी रहती है । इसका मुख्य वजह जब यात्री ट्रेन आती है, तो यहां से यात्रियों की सवारी लेकर आटो चालक लाईन से गुजरते हैं। इसके अलावा अन्य वाहनों द्वारा इस मार्ग का बहुतायत संख्या में उपयोग किया जाता है। इससे कई बार पुल के भीतर आटो वाहनों के कारण जाम लग जाता है। जिससे अटो एवं अन्य लोगो मे सांस भरने की समस्या उतपन्न होती है

शार्टकट के लिए कर रहे परेशान

रेलवे स्टेशन की ओर से मौहदापारा, बाजीराव महरापारा, प्रतिक्षा बस स्टैण्ड व जुटमिल जाने के लिए आटो चालक शार्टकट का रास्ता अपनाते हैं। इस वजह से पुल के भीतर से वे गुजरते हैं। इससे दूसरों की परेशानी बढ़ जाती है। यही नहीं पुल के बाहर अघोषित रूप से पाकिर्ग स्थल भी बना दिया गया है। काफी संख्या में आटो के खड़े रहने के कारण रोड पर भी यहां जाम लग जाता है।