रायगढ़। शहर के भीतर हो या बाहरी इलाके में जब जब पुलिस की चालानी कार्रवाई चलती है तो हल्की फुल्की नोंक झोंक भी उतपन्न् हो जाती है, परंतु रविवार की रात दो युवकों की मौत के बाद पुलिस महकमे को लोगों का आक्रोश झेलना पड़ गया। यह रोष बुधवार रात ट्रेनी सीएसपी के चालानी कार्रवाई व बदसूलकी के बाद पैदा हुआ। लोग गुस्से में पुलिस प्रशासन के खिलाफ एकजुट हो गए। वर्तमान व पूर्व विधायक भी पुलिस के खिलाफ लामबंद होकर एक नजर आए।

गौरतलब है कि जिंदल कंपनी की बस ने रात के वक्त दो युवकों को रौंद दिया, जिससे उनकी मौत हो गई। इस सड़क दुघर्टना के बाद शहर लोगों में यातायात व्यवस्था को लेकर पुलिस के खिलाफ आक्रोश पैदा हो गया। पुलिस ने भी रात में गस्त बढ़ा दी। इसी बीच स्टेशन चौक में प्रशिक्षु आईपीएस अधिकारी व प्रभारी सीएसपी सिद्धार्थ तिवारी की मौजूदगी में यातायात चालानी कार्रवाई की जा रही थी।

इस बीच रात 9 बजे जिला कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष प्रदीप गर्ग के पुत्र चारु अग्रवाल को पुलिस जवानों ने पकड़ लिया। इसकी भनक लगते ही पिता भी मौके पर आ गए। जहां चलानी कार्रवाई पर जुर्माना भी भर दिया। इसके बाद सीएसपी का एकाएक मिजाज उखड़ गया। कागजात की मांग करते हुए डांट-फटकार लगानी शुरू कर दी।

कागजात दिखाए जाने पर सीएसपी शांत नहीं हुए। इसके बाद कांग्रेस नेता ने विरोध जताया तो सीएसपी आगबबूला हो गए और जवानों को निर्देश देते हुए पिता पुत्र को गाड़ी में बैठाने की बात कहने लगे। देखते ही देखते यह विवाद बढ़ गया।

इस विवाद के बाद पूर्व विधायक और वर्तमान विधायक प्रकाश नायक भी अपने समर्थकों के साथ मौके पर पहुंच गए। लोगों का हुजूम स्टेशन चौक पर उमड़ पड़ा। चंद मिनटों में स्थिति तनावपूर्ण हो गई। लोग पुलिस प्रशासन और ट्रेनी आईपीएस मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे।

लोगों का हुजूम चंद कदमों की दूरी पर मौजूद पुलिस कप्तान राजेश अग्रवाल के दफ्तर पहुंच गया। यहां आधे घण्टे तक जमकर हंगामा हुआ। इसके बाद अधिकारियों ने लोगों को समझा-बुझा कर शांत किया। एडिशनल एसपी ने कहा कि इस मामले को संज्ञान में लिया गया है।

दोबारा ऐसी स्थिति ना हो इसकी कोशिश करने की बात कही है। विदित है कि पूर्व में भी देर रात शराब जांच मशीन से लोगों की जांच और बदसलूकी, वकील से बदसूलकी, महिलाओं का जबरन पीटा एक्ट में प्रकरण बनाने, ट्रांसपोर्टर को थाने में तमाचा मारने जैसे विवादों को लेकर यह प्रशिक्षु पुलिस अधिकारी सुर्खियां बटोर चुके हैं।