सारंगढ़ । नईदुनिया न्यूज

सारंगढ़ विकास खण्ड के गोमर्डा अभ्यारण क्षेत्र के अंदर स्थित 28 गांव के किसानों की निजी जमीन के खरीदी बिक्री के पंजीयन पर विगत 18 वर्षों से लगी रोक पर अब अभ्यारणवासी आर पार की लड़ाई लड़ने इस बार विधानसभा चुनाव का बहिष्कार करने के तैयारी में जुट गयें है गोमर्डा अभ्यारण के संयोजक रामकुमार थुरिया ने जानकारी देते हुए बताया कि लोक सुराज अभियान के माध्यम से दिये आवेदन पर शासन प्रशासन की ओर से अब तक किसी भी प्रकार से अभ्यारणवासियों को राहत देने वाली पहल नही की गई है विगत 18 साल से केन्द्र व राज्य सरकार गोमर्डा अभ्यारण के लोगों को जल जगंल जमीन के अधिकार से वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम के नाम पर परेशान कर रही है रजिस्ट्री प्रतिबंध होने से हमारे निजी जमीन का सरकारी दर विगत 18 साल से जस के तश है और इस प्रतिबंध के कारण कई प्रकार की परेशानी झेलना पड़ रहा है गोमर्डा अभ्यारण क्षेत्र के अंदर लगभग 22 सौ परिवार के लगभग 15 हजार की जनसंख्या निवास करती है जिसमें से अधिकांश कृषक हैं जिनके जमीन पर वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत जमीन खरीदी बिक्री एवं पंजीयन पर सन्‌ 2000 से पाबंदी लगी हुई और इतने लम्बे समय बित जाने के बाद भी किसानों की समस्या पर शासन ध्यान नही दे रही है।

18 साल बाद भी नही बना विस्थापन निति

गोमर्डा अभ्यारण रायगढ़ जिला की एक मात्र वन्य प्रणी अभ्यारण है जंगली जीवों के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए वन विभाग कोर क्षेत्र के 28 गांव को विस्थापित करना चाहती है लेकिन 18 साल बीत जाने के बाद भी विस्थापन नीति तैयार नही हो पाई है और हर बार अभ्यारण के लोगों को विस्थापन के लिए नये नये जगह दिखाकर ग्रामीण से सहमती पत्र भरवाकर दूसरें जगह जाने को वन विभाग के कर्मचारी तैयार करते हैं लेकिन आज तक न तो वन विभाग किसानों को जमीन दे पाई है और नही मुआवजा राशि का सही दर बता रही है जिससे विस्थापन की खबर और जमीन रजिस्टी बंद गोमर्डा अभ्यारण के लोगों के लिए सिर दर्द बना हुआ है इन सभी समस्याओं से परेधाान ग्रामीण अब सरकार से जल्द विस्थापन करने या जमीन रजिस्ट्री खोलने की मांग कर रहे हैं किसानों ने सरकार को इस बार भारी चुनौती देने का मन बनाया है जिसके लिए सभी गांव में बैठक कर चुनाव बहिष्कार की रणनीति बनाने की योजना पर काम करना शुरू कर दिया है।

घूसने नही देंगे प्रचार वाहन बढ़ेगी राजनैतिक दलों की परेशानी

सराईपाली विधानसभा से सटे सारंगढ़ विधानसभा अंतर्गत गोमर्डा अभ्यारण के 28 गांव में इस बार किसी भी पार्टी का प्रचार वाहन प्रवेश नही कर पायेगी इसके लिए ग्रामीण अभ्यारण में प्रवेश करने वाली प्रमुख मार्गों में खड़ा रहकर पार्टी प्रचार वाहनों को अंदर जाने से रोकने के लिए तैनात रहेंगे पहली बार प्रचार के लिए पहुचने वाले वाहन चालक एवं उसमें बैठे लोगों को समझाईस देकर कोर क्षेत्र में प्रचार न करने का आग्रह करेंगे और न माने तो किसी भी प्रकार की घटना घटित होने पर स्वयं जिम्मेदार होने का घोषणा पत्र भरवाकर अंदर जाने की अनुमति देंगे। ज्ञातव्य है कि अभ्यारण क्षेत्र में लगभग 8 हजार मतदाता है जिसमें अधिकांश वोट भाजपा के पक्ष में पड़ते है ऐसे में अभ्यारण के लोगों का चुनाव बहिष्कार कांग्रेस के लिए फायदेमद हो सकता है।