रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड (आरएससीएल) का इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (आइटीएमएस) पुलिस के लिए काफी मददगार साबित हो रहा है। पुलिस कंट्रोल रूम में बैठकर यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों पर नजर रखी जा रही है, वहीं इससे ई-चालान भी जनरेट हो रहे हैं। शनिवार के पहले तक रोजाना 100 ई-चालान जनरेट होते थे। इन्हें यातायात पुलिस के आठ आरक्षक घरों तक पहुंचते थे। यह व्यवस्था तब तक बरकरार रहेगी, जब तक कि आरएससीएल ई-चालान घर पहुंचाने के लिए कंपनी को ठेका नहीं दे देती। बहरहाल रायपुर पुलिस और परिवहन विभाग ने एक वेबसाइट लांच कर दी है, जिसके जरिए घर बैठे ई-चालान अदा किया जा सकता है। इससे उन नियम तोड़ने वालों को सुविधा होगी, जो ऑफलाइन चालान अदा करने के लिए समय नहीं निकाल पाते।

शनिवार को पुलिस उपमहानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यातायात एमआर मंडावी, उप पुलिस अधीक्षक यातायात सतीश ठाकुर को ऑनलाइन ई चालान सुविधा शुरू करने के निर्देश दिए थे। इसका नतीजा है यह है नई वेबसाइट। घर बैठे, राह चलते कहीं से भी ई-चालान अदा कर सकते हैं। उप पुलिस अधीक्षक ठाकुर ने बताया कि अगर आपने नियम तोड़ा है, तो मैसेज या फिर ई-मेल जो लाइसेंस बनवाते समय या फिर गाड़ी खरीदते वक्त दर्ज करवाया गया था, उसमें सूचना पहुंचेगी। निर्धारित समय में ई-चालान अदा करना होगा। उन्होंने बताया कि चालान काटना मकसद नहीं है, बल्कि नियमों का पालन करवाना उद्देश्य है।

स्मार्ट सिटी का टेंडर आचार संहिता के बाद-

ई-चालान को लेकर स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने सेकंड टेंडर कॉल किया है, मगर यह आचार संहिता के चलते खुल नहीं सका है। डाक विभाग एक चालान को पहुंचाने के लिए सात रुपये लेता है, अफसर चाह रहे हैं कि यह खर्च पांच रुपये से कम आए।

-------------------

ऐसे अदा करें ई-चालान

परिवहन विभाग की वेबसाइट में जाएं। फिर ई-चालान डिटेल में क्लिक करें। इसमें तीन ऑप्शन हैं पहला चालान नंबर, दूसरा व्हीकल नंबर, तीसरा डीएल नंबर। व्हीकल नंबर पर क्लिक करें। फिर अपनी गाड़ी का नंबर इंटर करें। फिर कैप्चा में दिए गए शब्द लिखें। क्लिक करें तो आपकी गाड़ी की पूरी जानकारी के साथ चालान की राशि आ जाएगी। इसमें पेमेंट में क्लिक करें। आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एसएमएस आएगा।