रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

छत्तीसगढ़ प्रदेश दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी महासंघ के सदस्यों के साथ दिल्ली पुलिस अपराधियों जैसा बर्ताव कर रही है। दिल्ली पुलिस को शायद इस बात का एहसास नहीं कि जिन्हें उसने बंधक बनाकर रखा है, वे अपराधी नहीं, कर्मचारी हैं, जो प्रधानमंत्री को अपनी चार सूत्रीय मांग बताने के लिए पैदल दिल्ली पहुंचे हैं।

छत्तीसगढ़ प्रदेश दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश शर्मा के नेतृत्व में कर्मचारी रायपुर से पद यात्रा कर दिल्ली पहुंचे हैं। राजघाट पर महात्मा गांधी की समाधि पर राष्ट्रपिता को श्रद्घांजलि अर्पित करने के बाद जब वे प्रधानमंत्री से मिलने के लिए कूच कर रहे थे तो दिल्ली पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेकर रकाबगंज गुरुद्वारा में बंधक बना लिया। कर्मचारी नेताओं का आरोप है कि पुलिस उनके साथ अपराधियों की तरह बर्ताव कर रही है। उन्हें प्रधानमंत्री से मिलने भी नहीं दिया जा रहा है। सभी साथी गुरुद्वारा में बंधक की तरह हैं। इधर छत्तीसगढ़ के विभिन्न कर्मचारी संगठनों में इस बात को लेकर आक्रोश पनप रहा हैं। दिल्ली में कर्मचारियों संग हुए दुर्व्यवहार की तपिश धीरे धीरे छत्तीसगढ़ तक पहुंच रही है। इधर रायपुर सिटी एसी प्रफुल्ल कुमार ठाकुर ने जब इस बाबत बात की गई तो उनका कहना था कि उन्हें इस तरह के किसी मामले की जानकारी नहीं है। न ही दिल्ली पुलिस ने उनसे संपर्क ही किया है।