रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार के 12 मंत्रियों का प्रजेंटेशन और उनकी परफॉर्मेंस रिपोर्ट देखने के बाद कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया ने सरकार को 10 में 10 अंक दिए हैं। उन्होंने मंत्रियों के अलग-अलग नंबर तो नहीं बताए, लेकिन यह कहा कि मंत्री सरकार का हिस्सा हैं। सरकार को मिला नंबर उनका नंबर है। प्रदेश प्रभारी ने कहा कि नई सरकार के पास छह माह की उपलब्धियां गिनाने के लिए बहुत कुछ है।

पुनिया ने मंत्रियों और पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम को जिम्मेदारी दी है कि सत्ता और संगठन तालमेल बनाकर काम करें। रविवार को राज्य अतिथि गृह पहुना में पुनिया ने एआइसीसी सचिव डॉ. चंदन यादव व डॉ. अस्र्ण उरांव, पीसीसी अध्यक्ष मरकाम की उपस्थिति में आठ मंत्रियों से वन-टू-वन चर्चा की।

कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत और स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह ने अपने-अपने विभागों में छह माह में हुए कामकाज के बारे में बताया।

अगले छह माह में क्या करेंगे, इसकी कार्ययोजना भी बताई। पुनिया ने मंत्रियों से कहा कि वे विभागों में प्रशासनिक कसावट लाएं, ताकि पार्टी के विधायक जनहित का कोई काम करना चाहें, तो उन्हें दिक्कत न हो। मंत्रियों से कहा कि न केवल विधायक, बल्कि पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी बराबर महत्व दिया जाए।

मंत्रियों से मिलने के बाद पुनिया ने राजीव भवन में पत्रकार में कहा कि कांग्रेस सरकार ने अपने घोषणापत्र के ज्यादातर बड़े वादों को पूरा किया है। नरवा, गस्र्वा, घुरवा, बाड़ी योजना गांवों को सुदृढ़ बनाएगी, इसके दूरगामी परिणाम देखने को मिलेंगे।


कार्यकर्ताओं को मिलेंगे पद

पुनिया ने कहा कि निगम-मंडलों में नियुक्ति होनी है, जिसमें पार्टी के कार्यकर्ताओं को ही पद दिए जाएंगे। कार्यकर्ताओं का सम्मान करके ही संगठन को मजबूत रखा जा सकता है।


कुशासन-सुशासन की पुस्तिका बांटी

पत्रकार वार्ता में कांग्रेस ने भाजपा के 15 साल के कार्यकाल और कांग्रेस के छह माह के कार्यकाल के ब्योरे वाली पुस्तिका बांटी। पुनिया ने कहा कि भाजपा का 15 साल का कुशासन था और कांग्रेस ने छह माह में सुशासन दिया है।