रायपुर (राज्य ब्यूरो)। राहुल गांधी के लिए पूरे 19 सौ दावेदारों का बायोडाटा अंग्रेजी में मांगा गया है। स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष भुवनेश्वर कलिता ने एक घंटे का समय दिया, ताकि दावेदारों पर आगे चर्चा हो सके। यह सुनते

ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता-प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव के हाथ-पैर फूल गए। बघेल और सिंहदेव ने

रातभर का समय मांगा। कलिता तैयार तो हो गए, लेकिन उन्होंने कहा कि हर हाल में उन्हें गुरुवार सुबह 10 बजे तक सभी दावेदारों का बायोडाटा अंग्रेजी में उपलब्ध करा दिया जाए। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कई पदाधिकारी रातभर हिंदी में आए बायोडाटा का अंग्रेजी में अनुवाद कर टाइप कराने की मशक्कत करते रहे।

दिल्ली के 15 गुरुद्वारा रकाब गंज रोड स्थित कांग्रेस के वार रूम में शाम 5.30 बजे से बैठक शुरू हुई। बैठक में कलिता के साथ स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य रोहित चौधरी, अश्विन कोटवार, छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया, डॉ. चंदन यादव, पीसीसी अध्यक्ष बघेल, नेता-प्रतिपक्ष सिंहदेव उपस्थित थे। रात 10 बजे तक बैठक चली, लेकिन बेनतीजा रही।

बताया जा रहा है कि पीसीसी अध्यक्ष ने उन 18 सीटों के दावेदारों का डॉकेट (बंद लिफाफे में सूची) रखी, जहां पहले चरण में मतदान होना है। जिन सीटों के लिए सिंगल नाम दिया है, उनका पूरा बायोडाटा हिंदी में था। बाकी सीटों में पांच का पैनल है तो पहले दो या तीन दावेदारों का ही बायोडाटा संलग्न था। कलिता ने साफ कहा कि तय प्रोफॉर्मा में डॉकेट नहीं आया है। उन्होंने कहा कि केवल 18 सीट ही नहीं, पूरी 90 सीटों के सभी दावेदारों का बायोडाटा उन्हें चाहिए। वह भी इंग्लिश में, जिसे वे 12 अक्टूबर को केंद्रीय चुनाव समिति के सामने रखेंगे।

अब दिक्कत इस बात की है कि 19 सौ दावेदारों के आवेदन आए हैं, उसमें से गिनती के दावेदारों ने ही इंग्लिश में बायोडाटा दिया है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सभी बायोडाटा को ट्रांसलेशन कर इंग्लिश में टाइप कराना होगा। गुरुवार को सभी 90 सीटों पर सिंगल नाम या अधिकतम दो नाम का पैनल तैयार करने की मशक्कत होगी। इधर टिकट के दावेदार दिल्ली में रात भर इस उम्मीद में डेरा डाले बैठे रहे कि उनकी किस्मत का फैसला कभी भी हो सकता है।

18 में से 11 सीटों पर सिंगल नाम लगभग तय

पहले चरण में 18 सीटों में चुनाव होना है, उसमें से 11 में सिंगल नाम तय मन लिया गया है। सिंगल नाम में विधायक

शामिल हैं। कोंटा से कवासी लखमा, दंतेवाड़ा से देवती कर्मा, चित्रकोट से दीपक बैज, बस्तर से लखेश्वर बघेल, कोंडागांव से मोहन मरकाम, केशकाल से संतराम नेताम, कांकेर से शंकर ध्रुवा, भानुप्रतापपुर से मनोज मंडावी, खुज्जी से भोलाराम साहू, डोंगरगांव से दलेश्वर साहू, खैरागढ़ से गिरवर जंघेल का नाम फाइनल माना जा रहा है। जबकि, बीजापुर, नारायणपुर, जगदलपुर, अंतागढ़, मोहलामानपुर, राजनांदगांव और डोंगरगढ़ से दो या तीन नाम का पैनल दिया गया है।

सर्वे से मेल नहीं खाया पैनल

पीसीसी ने कलिता के सामने जिन सीटों का पैनल रखा, उसका मिलान उन्होंने एआइसीसीसी की तरफ से कराए गए सर्वे से किया। सर्वे में सामने आए नाम पीसीसी के पैनल से गायब थे। सभी दावेदारों का बायोडाटा मंगाने का यह भी एक कारण है।