रायपुर। 'तीन साल की उम्र से मुझे अभिनय का शौक है। स्कूल के कार्यक्रम में भाग लेता था। मां ने देखा कि पढ़ाई के साथ अभिनय में भी रुचि है तो उन्होंने मुझे सिखाया। एक बार हम मुंबई गए। वहां मेरी मौसी ने मेरा अभिनय देखकर मम्मी से कहा- 'इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज" का ऑडिशन होने वाला है, एक बार कोशिश कर लो। ऑडिशन के लिए रातभर लाइन में लगे रहे।

हजारों बच्चों में से छह हजार बच्चों को छांटा गया। उनमें से फिर एक हजार, फिर पांच सौ, फिर सौ, ऐसा करते-करते ग्रेंड फिनाले में 20 बच्चों में मेरा भी चयन हो गया। टीवी सीरियल वालों ने कहा कि मुंबई में ही रहकर अभिनय करना होगा। हम बिलासपुर में रहते थे, ऐसे में मुंबई जाकर बसना आसान नहीं था।

मेरा कॅरियर बनाने के लिए मम्मी ने प्रिंसिपल पद से इस्तीफा दे दिया और हम मुंबई आ गए। ड्रामेबाज सीरियल में अभिनय जगत के अनेक पारखियों ने मेरे अभिनय को सराहा। इस बीच मुंबई के ही स्कूल में एडमिशन ले लिया। अब जबकि कई सीरियलों में तारीफ मिल रही है, लेकिन छत्तीसगढ़ की याद हमेशा सताती है। भविष्य में यदि कामयाब हो गया तो यहां की प्रतिभाओं को मौका दूंगा।"

यह कहना है बिलासपुर के 12 वर्षीय शिवलेख सिंह का। पूरे आत्मविश्वास के साथ वे कहते हैं कि अब ठान लिया है कि मुंबई में ही रहकर अभिनय जगत में नाम कमाना है।

मस्ती करें पर पढ़ाई पर ध्यान दें मोबाइल पर गेम न खेलें

बिलासपुर निवासी शिवेन्द्र सिंह और मां लेखना सिंह के साथ मुंबई से राजधानी पहुंचे शिवलेख सिंह प्रेस क्लब में पत्रकारों से रू-ब-रू हुए। पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा कि वे टीवी सीरियल के जरिए भले ही देशभर के बच्चों के बीच मशहूर हो गए हैं, लेकिन वे अभी खुद बच्चे हैं। अभिनय के साथ पढ़ाई पर भी वे उतना ही ध्यान देते हैं। उन्होंने हमउम्र दोस्तों से अपील की कि वे पढ़ाई पर विशेष ध्यान दें और मोबाइल पर गेम ज्यादा न खेलें।

सीरियल, जिनमें दिखाई प्रतिभा

जीटीवी के 'इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज"सोनी टीवी के 'संकटमोचन हनुमान" कलर्स टीवी के 'ससुराल सिमर का" सब टीवी के 'खिड़की"'बालवीर"'श्रश्रीमान श्रीमतीजी" बिग मैजिक के 'अकबर बीरबल" आदि सीरियलों में अपनी प्रतिभा दिखाई है।

शीघ्र ही कोरियाग्राफर रेमो डिसूजा की आगामी फिल्म में भी एक खास किरदार निभाने जा रहे हैं। बाल कलाकार का प्रेस क्लब में सम्मान- प्रेस क्लब अध्यक्ष केके शर्मा, महासचिव सुकांत राजपूत, उपाध्यक्ष सुखनंदन बंजारे, संयुक्त सचिव प्रफुल्ल ठाकुर ने बाल कलाकार शिवलेख सिंह को स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया और उनके उज्ज्वल भविष्य की मंगल कामना की।