रायपुर। आदिवासी वोटों को लेकर राजनीतिक दलों के बीच जबरदस्त खींचतान मची है। आदिवासी दिवस पर गुरुवार को भाजपा सरकार की तरफ से राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग राजधानी में प्रदेश स्तरीय समारोह करा रहा है। इसमें मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, केंद्रीय मंत्री जुएल ओराम, केंद्रीय राज्य मंत्री विष्णुदेव राय और अनुसूचित जाति-जनजाति विकास मंत्री केदार कश्यप भी शामिल होंगे।

कांग्रेस आदिवासी दिवस पर तो कोई बड़ा कार्यक्रम नहीं करेगी, लेकिन शुक्रवार को भाजपा सरकार के खिलाफ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जंगल सत्याग्रह की शुरुआत करेंगे।

राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग के प्रदेश स्तरीय आदिवासी समारोह को लेकर इनडोर स्टेडियम में तैयारी पूरी हो गई है। बूढ़ापारा रोड मंत्रियों और भाजपा नेताओं के फ्लैक्स से अटा पड़ा है, क्योंकि इस कार्यक्रम में प्रदेश के सभी जिलों से आदिवासी समाज के प्रमुख लोग शामिल होंगे।

आदिवासी समारोह के माध्यम से सरकार आदिवासियों को सरकार की तरफ से दी जाने वाली सुविधाओं और योजनाओं की ब्रांडिंग करेगी। कोशिश यह रहेगी कि समाज प्रमुखों के जरिये पूरे आदिवासी समाज तक अपनी बात पहुंचाई जाए। कांग्रेस आदिवासी दिवस के एक दिन बाद जंगल सत्याग्रह शुरू करने जा रही है।

राहुल गांधी पार्टी के नए प्रदेश कार्यालय से झंडी दिखाकर आदिवासी कांग्रेस की अलग-अलग टीम को रवाना करेंगे। ये टीमें प्रदेश की सभी आदिवासी आरक्षित सीटों में जाएंगी। आदिवासियों को बताएगी कि सरकार ने किस तरह से पेसा कानून और वन अधिकार अधिनियम का उल्लंघन करके आदिवासी समाज को नुकसान पहुंचाया है।

दोनों पार्टियां लगा रहीं पूरी ताकत

भाजपा आदिवासी क्षेत्रों में पहले से पूरी ताकत लगा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर पार्टी के कई बड़े नेता और पदाधिकारी बस्तर व सरगुजा संभाग का दौरा कर चुके हैं। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने विकास यात्रा और ग्राम सुराज अभियान की शुरुआत आदिवासी बहुल बस्तर संभाग से ही की थी।

कांग्रेस भी आदिवासी वोट बैंक को साधने के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही है। झीरम कांड की पांचवीं बरसी पर झीरम घाटी से संकल्प यात्रा निकाली और यात्रा के रथ को बस्तर संभाग के सभी 12 सीटों में घुमाया। इसके अलावा मुख्यमंत्री की विकास यात्रा के पीछे-पीछे विकास खोजो यात्रा निकाली। राहुल गांधी की विशेष टीम बस्तर संभाग में अलग लगी है।

बस्तर और सरगुजा में दो बड़े कार्यक्रम करेगी कांग्रेस

आदिवासी कांग्रेस प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अमरजीत भगत ने बताया कि जंगल सत्याग्रह एक माह चलेगा। इसका समापन बस्तर और सरगुजा में अलग-अलग तिथियों में होगा। भगत का कहना है कि दोनों आदिवासी बहुल क्षेत्र हैं, इसलिए कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को दोनों जगहों के समापन कार्यक्रम का न्योता दिया जाएगा।