रायपुर। रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन के बयान के बाद भाजपा ने कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव सरोज पाण्डेय ने मंगलवार को कहा कि राजन के कथन से कांग्रेस के झूठ की पोल खुल गई है। चहेते लोगों को केवल फोन पर कर्ज स्वीकृत कराये जाते थे। इसी फोन बैंकिंग का नतीजा यह हुआ कि बैंकों की आर्थिक सेहत बिगड़ती गयी और कांग्रेस नेताओं का बैलेंस बढ़ता गया।

भाजपा नेत्री ने कहा कि एनपीए (डूबे कर्ज) संकट के लिए संप्रग सरकार को जिम्मेदार बताने से स्पष्ट हो गया है कि लोन डकारने वालों को वर्ष 2006 व 2008 में कांग्रेस ने ही पाल-पोसकर संरक्षण दिया। अब अपने पाप और भ्रष्ट कारनामों का ठीकरा भाजपा सरकार पर फोड़ने का कृत्य कर रही है।

उन्होंने कहा कि प्रोजेक्ट रिपोर्ट और कर्ज अदायगी की जांच के बगैर संप्रग शासन में कर्ज बांटा गया। बाद में उस डूबे कर्ज की वसूली के लिए और कर्ज दिए गए। कांग्रेस शासन में पालिसी पैरालिसिस था जो एनपीए बढ़ने का प्रमुख कारण रहा है। पांडेय ने कहा कि राजन की नियुक्ति संप्रग शासन में ही हुई थी, इसलिए उनका इस कथन से कांग्रेस का चेहरा बेनकाब हुआ है। कांग्रेस ने देश को आर्थिक तौर पर दुर्व्यवस्था में धकेला है। देश सत्य और तथ्य, दोनों से अच्छी तरह वाकिफ था और रघुराज राजन के कथन ने एनडीए सरकार के दावे पर मुहर लगायी है।