मधुकर दुबे, रायपुर नईदुनिया। चिप्स के सर्वर रूम की हीटिंग से व्यापमं ही नहीं, अन्य 40 विभागों की 274 वेबसाइट के डाटा उड़ने की बात सामने आई है, लेकिन अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। सर्वर रूम के चैम्बर में अपलोड किए जाने वाले डाटा की सुरक्षा में तकनीकी गारंटी नहीं रह गई है। ऐसे में अन्य विभागों के स्टेट डाटा सर्वर में लगभग सभी वेबसाइट के डाटा क्रैक हो गए हैं।

व्यापमं की वेबसाइट से परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड अपलोड किए जाने की प्रक्रिया के चलते तकनीकी खराबी सार्वजनिक हो गई। ऐसे में अन्य विभागों की वेबसाइटों की जांच भी दायरे में आ गई है। बता दें कि चिप्स की अनुबंधित कंपनी सीफी पांच साल से स्टेट डाटा सेंटर के मेंटेनेंस कर रही है। अब तक करीब 19 करोड़ रुपये मेंटेनेंस कर चुकी है।

कूलिंग व्यवस्था फेल होने से बैकअप भी फेल

व्यापमं के डाटा को बैकअप से अपलोड करने की प्रक्रिया की पोल खुल गई। कूलिंग की व्यवस्था न होने से बैकअप फेल हो गया। सूत्रों के मुताबिक डाटा क्रैक होने के बाद वह पूरी तरह से अपलोड नहीं किया जा सका था। यही कारण है कि दोबारा ऐसी दिक्कतें सामने आई। नाम नहीं छापने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया कि व्यापमं ही नहीं सभी विभागों की वेबसाइटें प्रभावित हुई हैं।

स्टेट डाटा सर्वर रूम में 48 रैक्स में 273 वेबसाइट

स्टेट डाटा सर्वर रूम में 48 रैक्स में 40 विभागों की 274 वेबसाइट संचालित की जाती हैं यानी एक रैक में कई विभागों की वेबसाइट के डाटा अपलोड किए जाते हैं। इनके चैम्बर के लिए कूलिंग व्यवस्था की जाती है।

मंगलवार को भी निकले अधूरे एडमिट कार्ड

व्यापमं की वेबसाइट से पीईटी-पीपीएचटी परीक्षा के एडमिट कार्ड मंगलवार को आधे-अधूरे निकल रहे थे। 15 मई की सुबह नौ बजे तक एडमिट कार्ड अपलोड करने की छूट दी गई है। परीक्षा 16 मई को आयोजित है।

प्रशासनिक प्रशिक्षण संस्थान की वेबसाइट एरर

प्रशासनिक प्रशिक्षण संस्थान की वेबसाइट भी अपडेट नहीं है। आज भी इसके टूल्स एरर बता रहे हैं। ये शुरूआती दौर के बाद आज तक इसके सर्वर मेंटेनेंस नहीं हुआ है। जिसे http //cgoa.gov.in/

पर देखा जा सकता है।

एक्सपर्ट का भी दावा, सभी वेबसाइट पर असर

छत्तीसगढ़ पुलिस ट्रेनिंग एकेडमी में साइबर एक्सपर्ट और एक वेबसाइट की टेक्निकल डॉयरेक्टर मोनाली गुहा ने बताया कि सर्वर रूम में एक ही रैक्स में जब कई विभागों की वेबसाइट रखी गई है। ऐसे में कूलिंग सिस्टम फेल होने से हीटिंग बढ़ जाती है और अन्य वेबसाइट भी प्रभावित हो सकती है। इसकी जांच भी मैंने की है, अन्य विभागों की वेबसाइट में तकनीकी खामियों को दूर नहीं किया गया है।

इनका कहना है

हमारे स्टेट डाटा सेंटर में विभागों की वेबसाइट के मेंटेनेंस की जिम्मेदारी होती है, लेकिन इसमें डाटा अपलोड करने के लिए या तो विभाग खुद किसी एजेंसी से कराता है। कई विभाग एनआइसी के माध्यम से भी डाटा अपलोड करते हैं। हां, कभी-कभी नेट स्लो होने से वेबसाइट नहीं खुल पाती है। हमारे यहां सभी विभागों की वेबसाइट सुरक्षित हैं। अगर कहीं कोई खामी है तो तकनीकी इंजीनियर से जांच कराई जाएगी। रहीं व्यापमं की बेवसाइट से एडमिट कार्ड अपलोड करने की तो पिछले एक घंटे में 800 से अधिक प्रवेश पत्र निकाले जा चुके हैं - संजीव शर्मा, पीआरओ, चिप्स