रायपुर। ठंड का मौसम हो...आप खाने के शौकीन हैं और गरमा-गरम व्यंजन मिल जाए तो क्या कहने। जी ललचाएगा, मुंह से निकलेगा-वाह-वाह, क्या खाना है। लेकिन होटल-ढाबे में खाने की टेबल पर खाना थोड़ा भी ठंडा मिले तो मिजाज बिगड़ जाता है।

ऐसा लगता है कि कहां फंस गए। इतना घटिया खाना कभी नहीं खाया। इस समस्या को देखते हुए राजधानी के पांच सितारा होटल और ढाबों ने लजीज व्यंजनों के शौकीन लोगों के लिए अनोखा तरीका ईजाद किया है। लकड़ी के टुकड़े पर लोहे के गरम तवे पर व्यंजन रखकर परोसा जा रहा है।

ऐसे परोसते हैं व्यंजन

कोई भी व्यंजन को बनाने के बाद भट्ठी में रखे गरम तवे पर उसे रख दिया जाता है। अब बात आती है कि गरम तवे को उठाकर टेबल तक ले कैसे जाएं? इसका भी रास्ता निकाल लिया। गरम तवे को लकड़ी के टुकड़े के ऊपर रखकर टेबल तक ले जाते हैं। गरमा-गरम भाप उड़ता व्यंजन देखकर ग्राहक खुश हो जाता है।

इन व्यंजनों को परोसने में गरम तवे का इस्तेमाल

- पनीर चिली, नूडल्स, पनीर पकौड़ा, तवा रोटी, तंदूरी रोटी, दाल मखनी,

-पेय पदार्थों की रख दी जाती है कटोरी

किसी ग्राहक को गरमा-गरम दाल खानी है तो करोटी में दाल को डाल कर गरम तवे पर रखकर परोसा जाता है। स्वाद भी अनोखा होता है। इसके अलाव सूप, काफी, चाय को भी इसी अंदाज में दिया जाता है, ताकि ग्राहक तक पहुंचने तक जरा भी ठंडा न हो।

शौकीन लोगों की है मांग

पांच सितारा होटल कोटियार्ड मैरिड के हेड शेफ जितेन्द्र राठौर बताते हैं कि इस तरह का चलन ठंडे प्रदेशों में है। ज्यादातर हिमांचल के होटल्स में इसका उपयोग होता था। अब इसे राजधानी वाले भी पंसद कर रहे हैं।