रायपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। देश के शीर्ष मैनेजमेंट संस्थान की कई किस्म की कहानियां सुनने को मिलती रहती हैं, लेकिन इस बार रायपुर आईआईएम का भी अनोखा काम दिखाई दिया है। यहां के चार प्राध्यापकों ने मिलकर तीन किताबें लिखी हैं। ये प्राध्यापक हैं- विनीता सहाय, संजीव प्रश्र, सत्यसिब दास, भास्कर चटर्जी। इन्होंने अपनी किताबें संस्थान की वेबसाइट में अपलोड कर दी हैं। इन किताबों को देश के किसी भी मैनेजमेंट संस्थान के छात्र-छात्राएं निशुल्क डाउनलोड कर पढ़ सकते हैं। इन विषयों पर लिखी गई हैं किताबें कॉपोरेट सोशल रिस्पॉन्सबिलिटी (सीएसआर), सोशल मीडिया फॉर बिजनेस, इंडियन मैनेजमेंट केस पर किताबें लिखी गई हैं।

इनमें कंपनियों की नैतिक जिम्मेदारी और प्रबंधन की भूमिका को विस्तृत रूप से लिखा गया है। वहीं सोशल मीडिया से व्यापार को किस तरह से बढ़ाया जाए, इससे संबंधित जानकारी दी गई है। मैनेजमेंट से संबंधित केस की संपूर्ण समीक्षा को भी इन किताबों में बताया गया है। प्रबंधन की उपयोगिता को समझने के लिए उठाया कदम आईआईएम रायपुर के उक्त चारों प्रोफेसर ने बताया कि हमारी किताबों की उपयोगिता को प्रबंधन के छात्र समझें, इसलिए यह कदम उठाया गया।

हमारा प्रयास है कि प्रबंधन के छात्र इन किताबों से केस स्टडी, सीएसआर, सोशल मीडिया को सही तरह से समझ सकें। प्रोफेसर का हो गया स्थानांतरण, लेकिन वेब से नहीं हटी किताब प्रो. विनीता सहाय का स्थानांतरण हो गया है, लेकिन उन्होंने कहा कि उनकी लिखी किताब को वेब पेज से न हटाया जाए। इसका फायदा सभी प्रबंधन के छात्रों को मिलते रहना चाहिए, ताकि वे सोशल मीडिया की बारीकियों को प्रबंधन का हर छात्र समझ सके।


ये हैं किताबें

कॉपोरेट सोशल रिस्पॉन्सबिलिटी (सीएसआर)- सत्यसिब दास और भास्कर चटर्जी, सोशल मीडिया फॉर बिजनेस- प्रो. विनीता सहाय और संजीव प्रश्र, इंडियन मैनेजमेंट केस- प्रो. विनीता सहाय।