रायपुर। बिजली गुल हुई तो कर्मचारी अब झूठ नहीं बोल पाएंगे। कर्मचारी यदि झूठ बोले तो तुरंत पकड़े जाएंगे। पब्लिक भी अब बिजली जाने की झूठी शिकायत नहीं कर पाएगी, क्योंकि बिजली विभाग प्रदेश भर के फीडरों में मॉडम लगा रहा है। मॉडम सीधे पावर आउटेज मैनेजमेंट नामक एप से कनेक्ट रहेगा। एप के माध्यम से जिला मुख्यालय एवं प्रदेश मुख्यालय में बैठे अधिकारियों को पल-पल की जानकारी मिलती रहेगी।

एप से प्रतिदिन किस जिले में कितनी बिजली की सप्लाई हुई है, कितनी बार बिजली कटी है, इसकी जानकारी मिलेगी। इसके साथ फीडर के कर्मचारियों की भी जानकारी मिलती रहेगी। बिजली विभाग एप की शुरुआत विभाग में व्यवस्था सुधारने के लिए की है। बिजली विभाग के अधिकारी का कहना है कि एप का ट्रायल चल रहा है। यदि सफल रहा तो उपभोक्ता भी देख सकेंगे कि उनके इलाके में बिजली कितने घंटे कटी और कटने की वजह क्या है।

ज्ञात हो कि प्रदेश में कुल 3350 फीडर हैं। वर्तमान में एक फीडर से एक दिन में कितनी बिजली खपत हुई है, संबंधित फीडर से एक दिन में कितनी बार बिजली गुल हुई है, इसकी जानकारी विद्युत कंपनी में उच्च पद पर पदस्थ अधिकारियों को नहीं हो पाती थी।

पब्लिक जब बार-बार बिजली गुल होने की शिकायत उच्च अधिकारियों से करती थी तो फीडर में पदस्थ कर्मचारी बिजली सप्लाई बाधित होने की बात को सिरे से खारिज कर देता था। इससे बिजली कंपनी के अधिकारियों के बीच संशय की स्थित निर्मित हो जाती थी। इस संशय को खत्म करने के लिए बिजली विभाग फीडरों में मॉडम लगा रहा है। मॉडम सीधे एप से कनेक्ट रहेगा, जिससे अधिकारियों फीडर के बारे में जानकारी मिलती रहेगी कि वस्तु स्थिति क्या है।

अधिकारी नहीं बोल पाएंगे झूठ

बिजली विभाग के अधिकारी ने बताया कि उपभोक्ताओं के लिए वर्तमान में कई हेल्पलाइन चलाई जा रही हैं, लेकिन फीडर में तैनात कर्मचारियों पर नजर रखने के लिए किसी प्रकार की व्यवस्था नहीं थी। पावर आउटेज मैनेजमेंट नामक एप के जरिए अधिकारी बिजली कटौती की असली वजह जान सकेंगे। इसके साथ फीडर में बैठे अधिकारी और कर्मचारी अब अपने उच्च अधिकारियों से झूठ नहीं बोल पाएंगे।

बिजली की अधिक खपत पर भी रहेगी नजर

एप के जरिए बिजली विभाग के अधिकारियों को फीडर पर खपत होने वाली एक-एक दिन की बिजली की जानकारी मिलेगी। अधिकारी एक माह का सभी फीडरों पर नजर रखेंगे उसके बाद यदि किसी फीडर पर अचानक बिजली की खपत बढ़ गई तो उसकी जांच की जाएगी कि कही बिजली की चोरी तो नहीं हो रही है, बिजली की अचानक खपत बढ़ने की वजह क्या है।