रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष अजीत जोगी ने भारत निर्वाचन आयोग से पहली प्राथमिकता में 'हल चलाता किसान' चुनाव चिन्ह मांगा है। अभी आयोग से चिन्ह आवंटित नहीं हुआ है और पार्टी के नेता-कार्यकर्ता प्रचार करने लगे हैं। इससे पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों की चिंता बढ़ गई है। उन्हें निर्देश जारी करना पड़ा है कि वे अभी धैर्य रखें।

शुक्रवार को जोगी ने भारत निर्वाचन आयोग को चुनाव चिन्ह के लिए दूसरी बार आवेदन दिया। पार्टी सूत्रों के अनुसार विकल्प में कई चिन्ह दिए गए हैं, लेकिन पहले नम्बर पर हल चलाता किसान है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने पहले ही तय कर लिया था कि चुनाव चिन्ह किसानों से जुड़ा मांगा जाएगा, ताकि मतदाताओं के एक बड़े वर्ग को प्रभावित किया जा सके।

किस चुनाव चिन्ह का आवेदन दिया गया है, इसे पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपनीय रखने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन कुछ नेता और कार्यकर्ता मोबाइल में प्रचार करना शुरू कर दिए हैं। जोगी और दूसरे वरिष्ठ नेता नहीं चाहते कि पिछली बार की तरह हो।

जोगी ने सवा साल पहले नारियल चुनाव चिन्ह में मांगा था। उस वक्त भी आवंटन से पहले पार्टी के लोगों ने नारियल का प्रचार शुरू कर दिया था, लेकिन पांच माह पहले चुनाव आयोग ने नारियल का चिन्ह गोवा फारवर्ड पार्टी को आवंटित कर दिया था।