रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रायपुर कार्यालय में बैठे अधिकारियों को अब जंगल सफारी में होने वाली गतिविधियों के पल-पल की जानकारी मिलेगी। इसके लिए सफारी प्रबंधन जीपीएस युक्त वायरलेस सिस्टम खरीदने की तैयारी कर रहा है। प्रबंधन ने अधिकारियों को वायरलेस का प्रस्ताव बनाने का निर्देश दिया है, जिसे अनुमति के लिए मुख्यालय भेजा जाएगा। मुख्यालय की हरी झंडी के बाद दो दर्जन से अधिक वारयलेस सिस्टम खरीदा जाएगा। वायरलेस सिस्टम से लैस होने के बाद सफारी में होने वाली किसी भी प्रकार की घटना की जानकारी तुरंत मिल जाएगी। वहीं सफारी में तैनात कर्मचारियों के पल-पल के लोकेशन पता लगता रहेगा। वायरलेस सिस्टम से अपडेट होने के बाद कर्मचारी झूठ नहीं बोल सकेंगे। प्रबंधन का कहना है कि वायरलेस सिस्टम खरीदने के लिए तैयारी चल रही है।

ज्ञात हो कि एशिया से सबसे बड़े मानव निर्मित जंगल सफारी में सूचनाओं का आदान प्रदान करने के लिए फोन ही एक मात्र सहारा है। फोन पर सिर्फ एक कर्मचारी या फिर अधिकारी से बात हो सकती है। रायपुर में बैठे अधिकारियों को जरूरत पड़ने पर या फिर किसी प्रकार का आदेश-निर्देश देने पर अलग-अलग फोन करना पड़ता है। इसकी वजह है कि अभी तक एक साथ सब को सूचना का आदान प्रदान किया जा सके, ऐसी व्यवस्था नहीं है। इसको देखते हुए सफारी प्रबंधन द्वारा वायरलेस सिस्टम लेने का निर्णय लिया, ताकि एक साथ सबको सूचनाओं का आदान-प्रदान हो सके।

अधिकारियों और कर्मचारियों को मिलेगा सेट

जंगल सफारी के अधिकारी ने बताया कि वायरलेस फोन सफारी में गेटमैन, बीटगार्ड, डिप्टी रेंजर, रेंजर, एसडीओ व डीएफओ के पास रहेगा। उनके अनुसार वायरलेस फोन रेंजर, एसडीओ और डीएफओ की गाड़ी में हर समय रहेगा। ऐसे में अगर किसी प्रकार की अप्रिय घटना घटती है तो इसकी सूचना आने के बाद तुरंत जानकारी मिल सकेगी।

लोकेशन की मिलेगी जानकारी

वर्तमान में जंगल सफारी में पदस्थ कर्मचारियों के लोकेशन की जानकारी विभाग के अधिकारियों को नहीं मिल पाती है। फोन पर अधिकारियों को कर्मचारी सही लोकेशन की जानकारी नहीं देते थे। लेकिन अब कर्मचारियों को जीपीएस युक्त वायरलेस सिस्टम मिलने से उनके लोकेशन की जानकारी मिल सकेगी। इसके कर्मचारियों की झूठ अब पकड़ में आ जाएगी।

वर्जन

जीपीएस युक्त वायरलेस सिस्टम के लिए प्रस्ताव बनाकर मुख्यालय भेजा जाएगा। हरी झंडी मिलने पर उसे खरीदा जाएगा।-एम. मर्सीवेला, डीएफओ जंगल सफारी रायपुर