रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

छत्तीसगढ़ प्रदेश कुनबी समाज महासंगठन के नेतृत्व में 'एजुकेशन एंड कैरियर गाइडेंस फॉर स्टूडेंट्स एंड पैरेंट्स' विषय पर कार्यशाला आयोजित की गई। प्रमुख वक्ता वर्षा वरवंडकर ने बच्चों को कैरियर गढ़ने के आसान नुस्खे बताए। एबीसीडीई के माध्यम से समझाया कि ए फॉर अवेयरनेस अर्थात सदैव जागृत भाव में रहो। बी फॉर बिलिव अर्थात स्वयं पर विश्वास करो। सी फॉर कम्युनिकेट अर्थात अपने पालक एवं शुभचिंतकों से सदैव बातचीत करते रहें। डी फॉर ड्रीम अर्थात सपने देखें और डॉ. कलाम की तरह खुली आंखों से देखें, ई फॉर आंत्रप्रेन्योरशिप अर्थात स्वयं को सदैव योग्य या स्किल्ड बनाते रहना।

उद्योगपति एसएस ब्राम्हणकर ने बच्चों को प्रेरित करते हुए बताया कि कैसे उन्होंने केंद्रीय सरकार की नौकरी छोड़कर अपना करोड़ों का कृषि आधारित उद्योग स्थापित किया। नरेंद्र बोन्द्रे, डॉ.सुधीर टिचकुले, हर्षदा टिचकुले ने भी प्रभावशाली जानकारी दी। संचालन दानेश्वर रावत ने किया। कार्यक्रम में दिलीप गेड़ेकर, संजय, हेमराज हत्तिमारे, जेएन गोंदूडे, डीएन चौधरी, हरिलाल थेर, कैलाश अगासे, कृष्ण कुमार ब्राह्मणकर, अमित डोये समेत काफी संख्या में समाज के लोग शामिल हुए।