रायपुर। राजनांदगांव जिले में रविवार को नक्सलियों ने जिस जगह पर ब्लास्ट किया, उससे महज आठ-नौ किमी दूर मानपुर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने चुनावी सभा की। नक्सलियों की हरकत का असर चुनावी सभा में देखने को नहीं मिला। बाजार का दिन था, इसलिए मानपुर ही नहीं, आसपास के कई गांवों के लोग सभा में पहुंचे।

मुख्यमंत्री ने मानपुर के अलावा राजनांदगांव लोकसभा क्षेत्र के एक और ग्राम छुरिया व महासमुंद लोकसभा क्षेत्र के ग्राम कंडेल में भी चुनावी सभा की। तीनों सभाओं में आए लोगों से मुख्यमंत्री ने यह जोर देकर कहा कि जब भाजपा और आरएसएस के लोग वोट मांगने आएं, तो उनसे सवाल जरूर पूछें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच साल में क्या किया? कितने वादों को पूरा कर पाए? छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के किए कामों से उसकी तुलना करें। किसे वोट दें, उसके बाद फैसला करें।

मुख्यमंत्री का एक दिन का चुनावी दौरा नईदुनिया के साथ हुआ। चुनावी सभाओं के मंच से मुख्यमंत्री ने तल्ख लहजे में कहा कि भारत लोकतांत्रिक देश है, यहां हर किसी को सवाल पूछने का अधिकार है, लेकिन पिछले पांच सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा और आरएसएस ने सवाल पूछने पर पाबंदी लगा दी है। सवाल पूछो तो प्रधानमंत्री कहते हैं अपराध है, भाजपा राजद्रोही कहती है और आरएसएस धर्मविरोधी कह देती है।

मुख्यमंत्री ने कहा सवाल तो है साहब...नोटबंदी से अर्थव्यवस्था चरामरा गई, व्यापार चौपट हो गया, करोड़ों लोग बेरोजगार हुए, सैकड़ों की जान गई, जिम्मेदार कौन है? सवाल तो है, साहब...नोटबंदी से न कालाधन वापस आया, न आतंकवाद व नक्सलवाद का खात्मा हुआ, तो झूठा वादा क्यों किया? मुख्यमंत्री ने कहा, लोकतंत्र का महायज्ञ है, इसलिए मोदी और भाजपा को जनता की अदालत में जवाब तो देना होगा।

पहली बार देखा किसी पीएम के इतने रूप

बघेल बोले पीएम मोदी कभी चौकीदार बन जाते हैं, तो कभी फकीर, कभी 56 इंच वाले पीएम बन जाते हैं, तो कभी बुलेट ट्रेन चलाने वाले, पहली बार किसी पीएम के इतने रूप देखने को मिले हैं।

राष्ट्रवाद के मुद्दे पर बोला हमला

बघेल बोले आजादी की लड़ाई में आरएसएस और भाजपा के लोगों ने नाखून भी नहीं कटाया और अब वोट मांगने के लिए राष्ट्रवाद का ढिंढोरा पीट रहे हैं।