रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जकांछ) के 10 लाख 58 हजार 584 वोट पर भाजपा और कांग्रेस की नजर है। नौ लोकसभा सीटों के 50 विधानसभा क्षेत्रों में मिले जकांछ के वोट को लेकर भारी खींचतान मची हुई है। इसका कारण यह है कि दोनों राष्ट्रीय दलों का मानना है कि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) को समर्थन देने से जकांछ का पूरा वोट उसकी झोली में चला जाएगा, ऐसा नहीं है। जकांछ के वोटों का बंटवारा होगा। कितना, किसकी झोली में जाएगा, यह तो लोकसभा चुनाव के नतीजे के बाद ही अनुमान लगाया जा सकेगा।

जकांछ और बसपा मिलकर विधानसभा चुनाव लड़े थे। जकांछ को 90 में से 55 सीटें मिली थीं। जकांछ के पांच प्रत्याशी विधायक बन गए। जोगी लोकसभा चुनाव भी बसपा के साथ मिलकर लड़ना चाहते थे। पहले जोगी चार से पांच मांग रहे थे। बाद में दो और अंत में महज एक कोरबा सीट अपने लिए चाह रहे थे। बसपा सुप्रीमो मायावती ने उसे भी नहीं छोड़ा। अंतत : जोगी को मैदान छोड़ना पड़ा।

हालांकि, जोगी अब भी यह जताने की कोशिश कर रहे हैं कि जकांछ और बसपा का साथ बना हुआ है, इसलिए तो उन्होंने जांजगीर में चुनावी सभा करने आई मायावती के साथ मंच साझा किया। चुनाव के मैदान में जोगी या उनकी कोई भी प्रत्याशी नहीं है। जकांछ के टिकट से विधानसभा चुनाव लड़ने वाले आठ नेता तो कांग्रेस में आ गए हैं, इसलिए कांग्रेस का दावा है कि आठ विधानसभा क्षेत्र बिल्हा, तखतपुर, मुंगेली, भाटापारा, बिलासपुर, रायपुर उत्तर, धमतरी व राजनांदगांव में जकांछ को मिला कुल एक लाख 68 हजार 710 वोट अब कांग्रेस प्रत्याशी को मिलेगा।

कांग्रेस में आए जकांछ नेताओं को स्पष्ट कहा गया है कि वे अपना पूरा वोट कांग्रेस को दिलाएं। जोगी के समर्थन के कारण बसपा इस वोट को अपना मान रही है। कांग्रेस और बसपा का समीकरण अपनी जगह है, भाजपा भी आठों सीट में जकांछ का वोट अपनी ओर खींचने में लगी है।

चार सीटों पर निर्णायक होगा जकांछ का वोट

पिछले लोकसभा चुनाव के जीत-हार के अंतर आधार पर बात की जाए, तो चार लोकसभा क्षेत्रों में जकांछ के हिस्से का वोट निर्णायक साबित हो सकता है। कोरबा लोकसभा में भाजपा की जीत का अंतर महज 4265 वोट था, विधानसभा चुनाव में जकांछ को इस लोकसभा क्षेत्र में एक लाख 94 हजार 437 वोट मिले थे। दुर्ग लोकसभा में पिछली बार कांग्रेस 16 हजार 848 वोट से जीत गई थी और जकांछ को विधानसभा चुनाव में इस लोकसभा क्षेत्र में 90 हजार 914 वोट मिले।

पिछले लोकसभा चुनाव में रायपुर सीट से भाजपा एक लाख 71 हजार 646 वोट से जीती थी, जकांछ को अभी रायपुर लोकसभा क्षेत्र में आने वाली विधानसभा सीटों में कुल एक लाख 95 हजार 38 वोट मिले। महासमुंद की बात करें, तो लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस को 35 हजार 158 वोट से हराया था, अभी विधानसभा चुनाव में इस लोकसभा क्षेत्र से जकांछ को कुल 72 हजार 321 वोट मिले। जकांछ के वोट का करवट दूसरे दल के प्रत्याशियों की दशा और दिशा बदल सकता है। दूसरे और तीसरे चरण की बाकी छह लोकसभा सीटों की बात की जाए, तो पिछले लोकसभा चुनाव में वोटों का अंतर बहुत ज्यादा था, उसके मुकाबले जकांछ का वोट काफी कम है।

सरगुजा लोकसभा-39735 वोट

विधानसभा-वोट

प्रेमनगर-11842

भटगांव-9067

प्रतापपुर-5977

रामानुजगंज-10354

सीतापुर-2495

रायगढ़ लोकसभा-26507 वोट

पत्थलगांव-3915

लैलूंगा-12195

रायगढ़-5823

धर्मजयगढ़-4574

कोरबा लोकसभा-194437 वोट

मनेंद्रगढ़-12840

कोरबा-20938

रामपुर-46873

कटघोरा-30509

मरवाही-74041

बैकुण्ठपुर-9236

बिलासपुर लोकसभा-269986 वोट

कोटा-48800

लोरमी-67742

मुंगेली-32257

तखतपुर-49625

बिल्हा-29613

बिलासपुर-3641

बेलतरा-38308

राजनांदगांव लोकसभा-112871 वोट

कवर्धा-6250

खैरागढ़-61516

राजनांदगांव-1858

खुज्जी-14507

मोहला मानपुर-28740

दुर्ग लोकसभा-90914 वोट

पाटन-13201

दुर्ग ग्रामीण-11845

दुर्ग शहर-20634

वैशालीनगर-10696

साजा-6206

बेमेतरा-28332

रायपुर लोकसभा-195038

बलौदाबाजार-65251

भाटापारा-45907

धरसींवा-14968

रायपुर ग्रामीण-17175

रायपुर उत्तर-2510

आरंग-27903

अभनपुर-21324

महासमुंद लोकसभा-72321 वोट

बसना-7758

खल्लारी-12649

महासमुंद-24839

धमतरी-3299

राजिम-23776

कांकेर लोकसभा-56775

सिहावा-2312

संजारी बालोद-12664

डौंडीलोहारा-13929

गुंडरदेही-8648

भानुप्रतापपुर-9611

भानुप्रतापपुर-9611