रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

अब तक सबसे खतरनाक वायरस एड्स को लोग मान रहे थे, लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि देश में सबसे तेजी से हेपेटाइटिस वायरस बी फैल रहा है, जो नवजात शिशु से लेकर 80 वर्ष तक के लोगों को हो सकता है। एड्स और हेपेटाइटिस के वायरस फैलने का लक्षण एक जैसा है। रिसर्च में पाया कि छत्तीसगढ़ के पांच फीसद लोग इसकी चपेट में हैं और उन्हें पता भी नहीं है। यह जानकारी प्रेसवार्ता के दौरान सुयश हॉस्पिटल के गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट डॉ. मनोज लोहाटी ने दी। उन्होंने चिंता जाहिर करते हुए लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि अगर लोग समय पर चेकअप करा लें तो इसका छह महीने के अंदर इलाज संभव है। हेपेटाइटिस बायरस पूरी तरह से लीवर को डेमेज करता है। लीवर में सूजन होता है, जिसे लोग गंभीरता से नहीं लेते और अंत में उन्हें काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है।

फिल्म स्टार का दिया उदाहरण

शरीर से अगर लीवर डेमेज होगा तो धीरे-धीरे आप का शरीर कमजोर होगा और आप फिर कुछ करने में असमर्थ हो जाएंगे। डॉ. लोहाटी ने इंसानों के बीच बड़ी ही तेजी से फैल रही बीमारी हेपेटाइटिस बी और हेपेटाइटिस सी को लेकर लोगों में जागरूकता की बात कही। उनका कहना था कि अगर यह वायरस एक बार खून में मिल जाए और खून जमीन में गिरने के बाद सूखकर पपड़ी बन जाए तो भी सात दिनों तक वायरस जिंदा रहता है। आपको बीमारी का पता लगाना के लिए ब्लड चेकअप ही करवाना पड़ेगा। यह एक साइलेंट किलर बीमारी है, जो सीधे तौर से आपके लीवर पर अटैक करती है और एक समय के बाद लीवर को पत्थर जैसा कड़क बना देती है। हालांकि इस बीमारी का इलाज संभव है। समय पर पता चलने पर बीमारी पर पूरी तरह से काबू पाया जा सकता है। सबसे बड़ी बात यह है कि अगर कोई महिला प्रेग्नेंट है और वह इस वायरस से ग्रसित है तो उसे तुरंत इलाज करवाना जरूरी है। नहीं तो बच्चे में भी आसानी से यह बीमारी पहुंच जाएगी।