रायपुर।नईदुनिया प्रतिनिधि

विधानसभा थाना क्षेत्र के कचना स्थित जीएडी कॉलोनी से वित्त विभाग के उपसंचालक की कार चुराने वाले कार का ही पुराना चालक निकला। दरअसल नौकरी से निकाले जाने से नाराज होकर चालक ने अपने दोस्त पुलिस लाइन में पदस्थ आरक्षक के साथ मिलकर कार चोरी कर ली थी। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर कार बरामद कर लिया।

विधानसभा थाना प्रभारी अश्विन राठौर ने बताया कि 15 मार्च की रात 11 बजे जीएडी कॉलोनी कचना में रहने वाले संचानालय में पदस्थ वित्त विभाग के उपसंचालक शैलेंद्र बंशपाल घर से टलहने निकला। उन्होंने देखा पार्किंग स्थल पर खड़ी उनकी कार (आठ लाख कीमती होंडा, क्रमांक सीजी 04-9933) गायब है। यह सोचकर कि शायद कार को कहीं और खड़ी की है, आसपास तलाशने लगे, लेकिन कार नहीं मिली। तब उन्होंने घटना की शिकायत थाने में दर्ज कराई। विधानसभा की पुलिस टीम ने घटनास्थल का निरीक्षण कर शैलेंद्र और आसपास के लोगों से पूछताछ की। कॉलोनी में लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाला गया। इसी दौरान मुखबिर से सूचना मिली कि बैजनाथपारा निवासी अतीक खान उर्फ आसिफ खान (27) को घटनास्थल के आसपास देखा गया था। पुलिस ने अतीक खान को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो उसने अपने साथी पुलिस लाइन में पदस्थ आरक्षक अमलीडीह निवासी आकाश कुमार गजभिये (27) के साथ मिलकर कार चोरी करना स्वीकार किया।

छह महीने पहले काम से निकाला गया था चालक

पूछताछ में अतीक ने बताया कि वह पूर्व में शैलेंद्र की कार चलाने की नौकरी करता था। छह महीने पहले उसे नौकरी से अकारण निकाल दिया था। इससे वह काफी नाराजा था। मौका पाकर उसने पहले ही कार की चाबी चोरी कर ली। रात में आरक्षक दोस्त के साथ कॉलोनी से कार स्टार्ट कर ले भागा। कार को उसने आरक्षक के अमलीडीह स्थित घर में छिपाकर रखा था। पुलिस ने दोनों आरोपित को गिरफ्तार कर कार बरामद कर लिया है। आकाश गजभिये वर्तमान में रक्षित केन्द्र रायपुर में आरक्षक के पद पर पदस्थ है, लेकिन लंबे समय से ड्यूटी से गायब है। अतीक खान उर्फ आसिफ खान पूर्व में भी चोरी के मामले में जेल की हवा खा चुका है।