रायपुर। गांधी जयंती पर भाजपा और कांग्रेस नेताओं की सियासी पदयात्रा होगी। छत्तीसगढ़ में दोनों दलों ने इसकी रूपरेखा तय कर ली है। भाजपा सांसदों की पदयात्रा गांधी जयंती से शुरू होकर दस दिन चलेगी। इस दौरान सांसद 150 किलोमीटर यात्रा कर ग्रामीणों व कार्यकर्ताओं की समस्याएं सुनेंगे।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा सांसदों को पदयात्रा का निर्देश दिया है। छत्तीसगढ़ के सभी नौ भाजपा सांसद अपने लोकसभा में रोजाना 15 किलोमीटर की पदयात्रा करेंगे। एक संभाग में 100 से 150 दल पदयात्रा कर घर-घर जाकर मोदी सरकार की योजनाओं की जानकारी देंगे। भाजपा की पदयात्रा टीम कुल 150 किमी की यात्रा करेगी।


छत्तीसगढ़ से राहुल कर सकते हैं पदयात्रा की शुरूआत

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने दो अक्टूबर गांधी जयंती से पदयात्रा करने का एलान किया है। पार्टी सूत्रों की मानें तो कांग्रेस की पदयात्रा की शुरुआत करने राहुल छत्तीसगढ़ आ सकते हैं। हालांकि अभी राहुल का कार्यक्रम तो तय नहीं है लेकिन पीसीसी को तैयारी करने के संकेत मिले हैं।

इस यात्रा का मकसद बिखरे संगठन को मजबूत करने का होगा। इसका कारण यह है कि राहुल चाहते हैं, नई ऊर्जा के साथ नया संगठन खड़ा हो। संगठन के भीतर जो उथल-पुथल चल रहा है, उससे कांग्रेसशासित राज्य भी अछूते नहीं हैं। राहुल पदयात्रा करके हर राज्य के नए-पुराने नेताओं को करीब से जानेंगे। संगठन को चलाने के लिए ऊर्जावान नेताओं की पहचान की जाएगी। इससे संगठन में आमूलचूल बदलाव देखने को मिलेगा।