रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

चुनाव परिणाम आने के बाद रायपुर तहसील में पसरा सन्नाटा फरियादियों की हलचल से खत्म हो गया। सुबह से फरियादी पहुंच रहे हैं और अधिकांश लंबित कार्यों की संख्या घटने लगी है। हालांकि आचार संहिता चलते कई राजस्व प्रकरणों की सुनवाई नहीं हो पाई है। आचार संहिता रविवार 26 मई को हट गई। अब तहसील के सभी कार्यों में तेजी आएगी। तहसील के आला अधिकारियों का कहना है कि फिलहाल अभी फार्म बी-1, खसरा निकलवाने सहित सीमांकन, बटांकन जैसे कार्य को लेकर फरियादी आ रहे हैं। अधिकांश लोगों का कार्य हो जा रहा है। दिक्कत सिर्फ राजस्व प्रकरण को लेकर है, क्योंकि तहसील कार्यालय में 29 मई को इसकी सुनवाई होगी। इसकी जानकारी विभाग में चस्पा कर दी गई है। ज्ञात हो कि जमीन के कई प्रकरण चुनाव से पहले के लंबित हैं।

वेबसाइट में तकनीकी दिक्कत

विभाग के चक्कर लगा रहे फरियादियों का कहना है कि आचार संहिता की वजह से अधिकारी विभाग में बैठ नहीं रहे। अगर कुछ मिलते हैं तो आचार संहिता के नाम पर बाद में आने को कहते हैं। लोकसेवा केंद्र पर जाएं तो वहां पर जानकारी मिलती है कि वेबसाइट में तकनीकी दिक्कत है। साइट का सर्वर स्लो है। ऐसे में जमीन से संबंधित कोई भी काम हो बगैर तहसील आए नहीं हो पाएगा।

वर्सन

अधिकांश कार्य ऑनलाइन उपलब्ध

तहसील की अधिकांश जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध है, जिसे घर बैठे डाउनलोड कर सकते हैं। न्यायालयीन प्रकरण को छोड़कर बाकी कार्य के लिए लोगों को तहसील के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं है।

संदीप अग्रवाल, एसडीएम रायपुर तहसील