Naidunia
    Thursday, January 18, 2018
    PreviousNext

    झाड़ियों में लगी आग, टला बड़ा हादसा

    Published: Sat, 20 May 2017 12:26 AM (IST) | Updated: Sat, 20 May 2017 12:26 AM (IST)
    By: Editorial Team

    राजनांदगांव। शहर के ढाबा स्थित बालिका संप्रेक्षण गृह की झाड़ियों को जलाने कर्मचारियों ने ऐसे आग लगाई कि पूरा एरिया आग की चपेट आ गया। घटना सुबह करीब पौने दस बजे की है। कुछ ही देर में आग ने भीषण रूप ले लिया। बाउंड्रीवाल से सटकर झोपड़ियों में रहने वालों की धड़कने बढ़ गई थी। लोग आग बुझाने मिन्नतें करते रहे। पर कर्मचारियों ने ध्यान ही नहीं दिया। लगभग आधे घंटे बाद वहां से गुजरते समय पूर्व पार्षद सुनील रामटेके ने पूरा वाक्या देखा और तत्काल दमकल कर्मियों को घटना की सूचना दी। जिसके बाद फायर बिग्रेड मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया गया। समय रहते अगर आग नहीं बुझती तो बड़ा हादसा हो सकता था।

    पहले ही दे चुके थे निर्देश

    बालिका संप्रेक्षण गृह परिसर में झाड़ियां पूरी तरह सूख गई थी, जिसे साफ कराकर एक जगह जलाने के लिए पहले ही कर्मचारियों को निर्देशित किया गया था। लेकिन कर्मचारियों ने झाड़ियों में सीधे आग लगा दी। जिसके कारण आग पूरे परिसर में फैल गई थी। आग देखकर आसपास झोपड़ियों में रहने वालों की धड़कने बढ़ गई। लोग आग बुझाने के लिए चिल्लाते रहे। पर कर्मचारियों ने ध्यान ही नहीं दिया था। अगर आग पर समय रहते काबू नहीं पाया होता तो चार-पांच झोपड़ियां भी जलकर राख हो जाती।

    कर्मचारियों को लगाई फटकार

    आग बुझाने के बाद पूर्व पार्षद ने पीडब्ल्यूडी के कर्मचारियों को फटकार लगाई। पूर्व पार्षद रामटेके ने बताया कि यहां पर कोई भी कर्मचारी पदस्थ नहीं है। प्रशासन पीडब्ल्यूडी के कर्मचारियों से देखरेख का काम करा रहा है, लेकिन यहां कर्मचारी ही मनमानी पर उतर आए हैं। बताया कि पूर्व में ही उन्होंने कर्मचारियों को झाड़ी कांटकर एक जगह जलाने के लिए कहा था, पर कर्मचारियों ने लापरवाही पूर्वक झाड़ियों में ही सीधे आग लगा दी। विभागीय अफसरों से इसकी शिकायत की जाएगी, ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो।

    और जानें :  # CG News # Rajnandgaon News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें