राजनांदगांव। नईदुनिया प्रतिनिधि

चुनावी दौर के चलते नवरात्र में पंडाल लगाकर पदयात्रियों की सेवा करने वालों ने इस बार हाथ खींच लिया है। शायद यही कारण है कि अंजोरा बायपास से डोंगरगढ़ तक इस बार गिनती के सेवा पंडाल लगे हैं। पंडालों में व्यवस्था भी नहीं है। लाइटिंग भी पिछले साल से खराब है। हाइवे में ही कई जगहों पर लाइट नहीं है। मोतीपुर से अछोली तक भी लाइट व्यवस्था में खानापूर्ति की गई है, जिसके कारण पदयात्रियों को कई दिक्कतों से जूझना पड़ रहा है। इसके बाद भी पैदल ॅचलकर डोंगरगढ़ तक यात्रा करने वाले दर्शनार्थियों की संख्या नहीं घटी है। शनिवार को शहर में पदयात्रियों का रेला देखा गया। रविवार को पंचमी है। इसके कारण भी सड़कों पर पदयात्रियों की भीड़ रही।

पंडालों में व्यवस्था की कटौती

पदयात्रियों की सेवा में लगे पंडालों में इस बार पहले जैसी व्यवस्था भी नहीं है। अधिकांश पंडालों में पानी के अलावा रात रूकने की व्यवस्था नहीं है, जिसके कारण पदयात्रियों को सड़कों पर ही रात गुजारनी पड़ रही है। हाइवे में लाइटिंग व्यवस्था भी इस बार नहीं के बराबर है। वहीं पंडाल भी कम हो गए हैं। हाइवे में गिनती के ही सेवा पंडाल लगे हैं। इसके चलते पैदल डोंगरगढ़ जाने वाले दर्शनार्थियों को कई तरह की परेशानियों से भी जूझना पड़ रहा है। सेवा पंडालों में इस बार स्वास्थ्य विभाग ने भी खानापूर्ति की है। कई पंडालों में तो स्वास्थ्य कर्मी ही नहीं है।

चौथे दिन बढ़ी पदयात्रियों की भीड़

हर साल की तरह इस बार भी नवरात्र पर्व के चौथे दिन पद यात्रा कर डोंगरगढ़ जाने वाले दर्शनार्थियों की संख्या बढ़ी है। शनिवार को सुबह से देर शाम तक हाइवे व ग्रामीण रूटों पर पदयात्रियों का रेला लगा रहा। मौसम भी पदयात्रियों के साथ है। इन दिनों ठंड का अहसास भी शुरू हो गया है। इस कारण दर्शनार्थी जोर-शोर से पैदल यात्रा कर रहे हैं। पिछले वर्ष की तरह इस साल भी पदयात्रियों में महिला व युवतियों की संख्या अधिक है।