राजनांदगांव। विधानसभा चुनाव में किसानों ने सरकार को उखाड़ फेंकने का मन बना लिया है। दो सालों का धान बोनस, समर्थन मूल्य, बीमा का भुगतान सहित अन्य मांगों को लेकर जिले के किसान कई महीनों से सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके बाद भी इनकी मांगें आज तक पूरी नहीं हो सकी। मांग पूरी नहीं होने से नाराज किसानों ने गांवों में सभा लेकर ग्रामीणों को सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने का निणर्य लिया है।

ठेलकाडीह से होगी बैठक की शुरुआत

जिला किसान संघ द्वारा जिले के विभिन्न गांवों में किसान प्रतिनिधियों की बैठक होगी। बैठक में किसान प्रतिनिधि ग्रामीणों को सरकार की करनी और कथनी को बताएंगे। वहीं सरकार के विरोध नीतियों से ग्रामीणों को अवगत कराएंगे। रविवार को सुबह 11 बजे ठेलकाडीह में और दो बजे छुईखदान में किसान प्रतिनिधियों की बैठक होगी। 15 अक्टूबर को 11 बजे गौरीनगर में राजनांदगांव विधानसभा व दो बजे तुमड़ीबोड़ में डोंगरगढ़ विधानसभा एवं 16 अक्टूबर को 11 बजे कुर्मदा में खुज्जी विधानसभा क्षेत्र के किसान प्रतिनिधियों की बैठक कर रायशुमारी की जाएगी। जिसमंें विधानसभा चुनाव में किसान मजदूरों के वोट का किसान मजदूर हित में किस तरह इस्तेमाल किया जाए।

विभिन्न विषयों पर होगी चर्चा

बैठक में विभिन्न विषयों को लेकर चर्चा की जाएगी। जिसमें विधानसभा चुनाव में किसान मजदूरों के वोट का किसान मजदूर हित में किस तरह इस्तेमाल किया जाए। विकल्पों में नोटा, सशक्त उम्मीदवारों को समर्थन व प्रत्याशी देने आदि पर विचार किया जाएगा। शीघ्र ही मोहला-मानपुर विधान-सभा क्षेत्र के किसान प्रतिनिधियों की बैठककर तिथि तय की जाएगी। इसके बाद जिला स्तरीय बैठक होगी।