राजनांदगांव। बांग्लादेश में पेसापोलो एशियन चैंपियनशिप का आयोजन किया गया। चैम्पियनशीप में भारत ने शानदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक प्राप्त किया। भारत ने शानदार शुरुआत के साथ अंत फाइनल मैच को जीत कर सभी वर्गों के स्वर्ण पदक पाने में कामयाब रहा। इस प्रतियोगिता में पांच अलग-अलग इवेंट हुए। जिसमे जूनियर, बालक-बालिका, सीनियरबालक, युथ बालक-बालिका सभी वर्गों में प्रबल दावेदारी के साथ भारतीय टीम ने सभी देशों को रौंदते हुए गोल्ड मैडल पर कब्जा जमाया।

0 छग के खिलाड़ियों ने दिखाया दमखम

भारतीय टीम में छग के पांच खिलाड़ियों का चयन हुआ था। सभी खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया। श्रेयस व एकता जंघेल ने बेहतर प्रदर्शन कर सबको चौका दिया। पदक वितरण समारोह में इंटरनेशनल पेसापालो संघ के सीईओ जोसेफ पसलोजो कि?नि लैंड, भारतीय संघ के सचिव चेतन व बांग्लादेश के सचिव अ?ीम खान, श्रीलंका के मुथैया, नेपाल सचिन सिंह व भूटान के दंचुंगचुंग शामिल हुए। सीईओ जोसेफ पसलो ने छत्तीसगढ़ के श्रेयस चन्द्राकर को बेस्ट हीटर अवार्ड से नवाजा।

0 शहर पहुंचने पर हुआ स्वागत

शहर पहुंचने में खिलाड़ियों का जोरदार स्वागत किया गया। इस दौश्रान छत्तीसगढ़ पेसापोलो के सचिव मारुति मरकाम व जिला संघ के सचिव ओमान तम्बोली उपस्थित थे। श्रेयस चन्द्राकर व एकता जंघेल ने अपने पूरे खेल का श्रेय कोच ओमान तम्बोली को दिया। दोनो खिलाड़ियों ने कहा कि दिनभर की कड़ी मेहनत से ही आज हम इतने का बिल हुए है कि भारत का नेतृत्व कर पाए। जिला संघ के सचिव ओमान तम्बोली व राज्य पेसापोलो संघ के सचिव मारूति मरकाम ने शासन से अपील की है कि इस खेल को शासन क्रीड़ा व स्कूल स्तरीय खेलों में जोड़ा जाए ताकि श्रेयश और एकता की तरह और भी खिलाड़ी भारत की ओर से प्रतिनिधित्व कर देश का गौरव बढ़ा सके।