रायपुर। प्रदेश की सर्वाधिक हाईप्रोफाइल विधानसभा क्षेत्र राजनांदगांव से जकांछ प्रमुख अजीत जोगी ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के विरुद्ध दावेदारी कर वहां के चुनाव को और रोचक कर दिया है। पूर्व मुख्यमंत्री के लिए राजनांदगांव में जमीन तैयार करने की जिम्मेदारी उनकी बहू ऋचा जोगी को सौंपी गई है।

ऋचा जोगी को जकांछ ने राजनांदगांव का प्रभारी नियुक्त किया है। बहू दिन रात ससुर के लिए राजनीतिक जमीन तैयार करने में जुटी हैं। हालांकि जोगी की अनुपस्थिति में राजनीति की नौसिखिया मानी जा रही ऋचा कितना माहौल खड़ा पाएंगी इसे लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं।

जोगी ने राजनांदगांव से ताल तो ठोंक दी है लेकिन वहां समय नहीं दे पा रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री व जकांछ मुखिया अजीत जोगी ने यह घोषणा की है कि रमन सिंह जहां से चुनाव लड़ेंगे वे भी वहीं से चुनाव मैदान में उतरेंगे।

फिलवक्त रमन सिंह राजनांदगांव से विधायक हैं, इसलिए जोगी ने वहीं से अपनी दावेदारी की है। राजनांदगांव प्रभारी ऋचा इन दिनों रमन सिंह के क्षेत्र में अपने ससुर अजीत जोगी की राजनीतिक जमीन तैयार कर रही हैं।

ऋचा ने वहां आम कार्यकर्ता की तरह महिला संगठनों व कार्यकर्ताओं के बीच पार्टी को मजबूत कर रही हैं। इन दिनों डोर-टू-डोर कंपेनिंग का कार्यक्रम ऋचा की अगुवाई में वहां चल रहा है। अजीत जोगी ने वहां से उम्मीदवारी तो कर दी है पर अभी तक वहां अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं कराई है।

अजीत जोगी पार्टी की कमान पूरे प्रदेश में संभाले हुए हैं, इसलिए उनके क्षेत्र की कमान उनकी बहू के पास है। रमन सिंह के विरुद्ध ऋचा अपने दल को कितनी प्रमुखता से वहां स्थापित कर पाती हैं यह तो वक्त बताएगा परंतु ऋचा जोगी इन दिनों राजनांदगांव में लगातार प्रवास कर लोगों के बीच पहुंचने का प्रयास कर रही हैं।

हालांकि रमन सिंह का विधानसभा क्षेत्र होने के नाते ऋचा का प्रयास बहुत परवान नहीं चढ़ रहा है। अजीत जोगी की अनुपस्थिति भी असर डाल रही है। देखना कम रोचक न होगा कि इस हाई प्रोफाइल सीट पर प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी व वर्तमान मुख्यमंत्री रमन सिंह के बीच मुकाबला कैसा होगा।