फोटो-25

सीतापुर । नईदुनिया न्यूज

खेल एवं युवा कल्याण विभाग के दिशा निर्देश में खंड शिक्षाधिकारी कार्यालय परिसर में युवा महोत्सव का आयोजन किया गया, जिसमें स्कूली बच्चों ने हिस्सा लिया और लोक नृत्य, लोक गीत, नाटक, सुआ नृत्य जैसे सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम का शुभारंभ बीईओ नरेंद्र सिन्हा ने मां सरस्वती के छायाचित्र पर दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि छात्र जीवन मे जितना महत्व शिक्षा का है, उतना ही महत्व सांस्कृतिक गतिविधियों का भी है। जीवन में इनका समन्वय इंसान को नई ऊंचाइयों तक ले जाती है। उन्होंने कहा कि हम पढ़ाई को प्रथम वरीयता में रखते है और खेलकूद एवं सांस्कृतिक गतिविधियों को दूसरी वरीयता में रखते है अच्छी बात है, किंतु अगर आप गीत, संगीत के अलावा खेलकूद में विशेष रुचि रखते है तो पढ़ाई के अलावा इसमें भी ध्यान देना चाहिए, क्योंकि इस क्षेत्र में भी कैरियर बनाने की असीमित संभावनाएं हैं।

प्राचार्य सीएल सिदार ने भी बच्चो का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि पढ़ाई लिखाई के साथ सांस्कृतिक गतिविधिया हमारे जीवन मे अनुशासन के साथ आत्मविश्र्वास पैदा करती है, जिसके बलबूते हम जीवन के कठिन दौर भी आसानी से पर कर लेते हैं। कार्यक्रम को शिवभरोस बेक ने भी संबोधित कर कहा कि ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन बच्चों की प्रतिभा एवं क्षमता को निखारने हेतु आयोजित किए जाते हैं। इस तरह के आयोजन में बच्चे भी खुलकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते है, जिससे उनके अंदर की क्षमता विकसित होती है और आगे जाकर वो बड़े-बड़े आयोजनों में भी अपनी प्रतिभा का खुलकर प्रदर्शन करते है। इस दौरान कार्यक्रम में कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय की छात्राओं ने लोकनृत्य, नाटक और गीत प्रस्तुत कर वाहवाही बटोरी तो कन्या उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय की छात्राओं ने विलुप्त होती सुआ नृत्य प्रस्तुत कर तालिया बटोरी। माध्यमिक शाला कटनईपारा एवं चाइल्ड एजुकेशन सेंटर की छात्राओं ने भी आकर्षक नृत्य प्रस्तुत कर युवा महोत्सव में अपने जलवे बिखेरे। अंत मे सभी प्रतिभागी संस्थाओं के प्रतिभागियों को लेखापाल प्रसाद राम पैंकरा की ओर से 500-500 रुपये का नगद इनाम देकर उनका उत्साहवर्द्धन किया गया। कार्यक्रम का संचालन शिक्षक सुशील मिश्रा एवं आभार प्रदर्शन लिपिक रामकुमार पैंकरा ने किया। इस अवसर पर संकुल समन्वयक उमेश मिश्रा, पुष्पेंद्र गुप्ता, मिथिलेश रत्नाकर, जगह विशि, राधेश्याम यादव, शरद वर्मा, लिपिक दूधनाथ सिंह सहित शिक्षक-शिक्षिकाएं उपस्थित थे।