0 अल्पसंख्यक समुदाय हेतु संचालित योजना की जानकारी देने सम्मेलन

0 उत्कृष्ठ कार्य पर 64 लोगों को किया गया सम्मानित, योजनाओं की दी जानकारी

अंबिकापुर । नईदुनिया प्रतिनिधि

छत्तीसगढ़ राज्य अल्पसंख्यक आयोग के द्वारा अल्पसंख्यक समुदायों के सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षणिक विषयों पर भारत सरकार एवं राज्य सरकार की योजनाओं के प्रचार-प्रसार हेतु संभाग स्तरीय सम्मेलन समारोह का आयोजन गृहमंत्री रामसेवक पैकरा के मुख्य आतिथ्य में रविवार को राजमोहिनी भवन अंबिकापुर में संपन्न हुआ। समारोह में अल्पसंख्यक समुदाय के धर्मगुरूओं द्वारा अपने-अपने धर्मों में बताए गए उपदेशों का वाचन कर शांति एवं सौहाद्रपूर्ण वातावरण में जीवन-यापन करने की अपील की। इस दौरान विभिन्न समुदायों के करीब 64 उत्कृष्ट कार्य करने वाले विभूतियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

समारोह को संबोधित करते हुए गृहमंत्री श्री पैकरा ने कहा कि छत्तीसगढ़ शासन ने अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के कल्याण तथा उनकी समस्याओं का आसानी से निराकरण के लिए आयोग का गठन किया गया है। छत्तीसगढ़ शासन द्वारा बिना भेदभाव किए सभी वर्गों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं। इन योजनाओं की जानकारी लेकर अधिक से अधिक लाभ उठाएं और उन्नति की राह पर आगे बढ़ें। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ अल्पसंख्यक आयोग इन वर्गों के हितों को ध्यान में रखने हेतु एक माध्यम है जो शासन को इन वर्गों के हित के लिए अवगत कराती है। श्री पैकरा ने कहा कि प्रतिभा के साथ कौशल विकास हो तो व्यक्ति कहीं भी आसानी से जीवन-यापन कर सकता है। इसी को ध्यान में रखकर छत्तीसगढ़ शासन ने कौशल विकास के माध्यम से युवाओं को हुनरमंद बना रही है, ताकि वह अपने हुनर के बल पर रोजगार तथा स्वरोजगार स्थापित कर सकें। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय बेहिचक अपनी समस्याओं को आयोग के समक्ष रखें, क्योंकि आयोग एक संवैधानिक अधिकार प्राप्त संस्था है और वह सम्मान भी जारी कर सकता है।

सांसद कमलभान सिंह ने कहा कि भारत विविधताओं का देश है। यहां अनेक धर्म और भाषा, संप्रदाय जाति के लोग निवास करते हैं फिर भी आपस में एकता का मिसाल कायम करते हुए भाईचारा के साथ रहते हैं। उन्होंने कहा कि संभाग स्तरीय सम्मेलन के माध्यम से केन्द्र एवं राज्य सरकार की अनेक जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी जा रही है। इन योजनाओं की जानकारी के आधार पर शासकीय योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाएं तथा जो लोग यहां नहीं आ पाए हैं उन्हें यहां दी गई जानकारियों को बताएं ताकि वे भी लाभान्वित हो सकें।

छत्तीसगढ़ अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह केम्बो ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ शासन ने अल्पसंख्यक समुदाय के कल्याण के लिए अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं। उन्होंने कहा कि कब्रिस्तान के चारदीवारी के निर्माण हेतु राशि स्वीकृत करने से लेकर मदरसों के बच्चों के गणवेश, वजीफा, कॉपी, पुस्तक की निःशुल्क व्यवस्था किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आगामी राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग की बैठक होने वाली है, जिसमें छत्तीसगढ़ के अल्पसंख्यक समुदाय के समस्याओं को आयोग के समक्ष रखा जाएगा। कार्यक्रम को जिला पंचायत अध्यक्ष फूलेश्वरी सिंह, हस्तशिल्प विकास बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष अनिल सिंह मेजर, अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य प्रबोध मिंज, मेयर डा. अजय तिर्की, अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य तौकीर रजा, सभापति शफी अहमद ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में जिला पंचायत उपाध्यक्ष प्रभात खलखो, भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेश सोनी, वरिष्ठ पार्षद आलोक दुबे सहित अन्य जनप्रतिनिधि व अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

10 रुपये का शपथ पत्र का उपयोग प्रमाण पत्र के रूप में-

अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य प्रबोध मिंज ने बताया कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के लिए अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र बनाने हेतु 10 रुपये के स्टांप पेपर में शपथ पत्र प्रस्तुत किया जाता है और यही शपथ पत्र अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र के रूप में उपयोग किया जाता है। इसी प्रकार जाति प्रमाण पत्र बनाने में समस्याओं की ओर ध्यान आकृष्ट करते हुए कहा कि किसी समुदाय विशेष में जाति के स्थान पर समुदाय का नाम राजस्व रिकार्ड में उल्लेखित होने के कारण नहीं बन पाता है, इसे ग्राम सभा में प्रस्ताव पारित कर संबंधित जाति का उल्लेख कराएं। उन्होंने बताया कि सरगुजा संभाग में पिछले वित्त वर्ष में राज्य शासन द्वारा कब्रिस्तानों के बाउंड्रीवाल के लिए दो लाख 70 हजार रूपये की राशि स्वीकृत की गई है।