कोरबा। नईदुनिया प्रतिनिधि

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के कार्यकर्ताओं ने बढ़ते महंगाई और किसानों के मुद्दे सहित कई अन्य मांग को लेकर उग्र प्रदर्शन किया। कलेक्टोरेट घेराव के निकले सैकड़ों कार्यकर्ताओं को रोकने पुलिस ने टीन की दीवार उठा रखी थी। इसके पहले लगाए गए बेरीकेट्स को तोड़ कर कार्यकर्ता आगे बढ़ गए, पर टीन की दीवार के पास पुलिस ने उन्हें रोक लिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं और पुलिस जवानों के बीच जमकर झूमाझटकी हुई। भीड़ को तितर-बितर करने पुलिस को वाटर केनन का इस्तेमाल करना पड़ा। बाद में एसडीएम को प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन सौंपा।

सुभाष चौक के समीप जकांछ के कार्यकर्ता गुरुवार को दोपहर एक बजे से एकत्र होना शुरू हो गए थे। युवा कार्यकर्ता बाइक रैली निकालकर सभा स्थल पर पहुंचे। दो बजे धरना एवं सभा शुरू हुई। इस दौरान पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार महंगाई पर अंकुश लगाने में पूरी तरह असफल रही है। पेट्रोलियम पदार्थ की कीमत में इजाफा से आमजनों की जेब पर असर पड़ रहा है। विकास यात्रा के नाम पर लाखों रुपये खर्च किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिले में भू-विस्थापितों की समस्याओं का आज तक निराकरण नहीं हो सका। जमीन देने के बाद भी विस्थापित नौकरी, पुनर्वास व मुआवजा के लिए भटक रहे हैं। सर्वाधिक बिजली उत्पादन करने वाले जिले में ही अघोषित विद्युत कटौती हो रही है। सरकार थोथी वाहवाही लूटने का प्रयास कर रही है, पर आमजनता के हितों का ख्याल नहीं रखा जा रहा है। सभा को जिला प्रभारी ज्ञानेंद्र उपाध्याय, महिला नेत्री गीता नेताम, अर्चना उपाध्याय ने संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार की नाकामियों और आमजनता की समस्याओं को लेकर जोगी कांग्रेस आंदोलन कर रही है। पेट्रोल-डीजल के दामों में बेतहाशा वृद्धि की गई और अब एक पैसा दाम कम कर जनता के साथ मजाक उड़ाया जा रहा है। महंगाई पर अंकुश लगाने में सरकार अक्षम रही है। इससे गृहणियों का बजट गड़बड़ा गया है। सभा उपरांत पार्टी कार्यकर्ताओं ने रैली के रूप में कलेक्टोरेट घेराव करने रवाना हुए। जगह-जगह पुलिस की व्यापक व्यवस्था की गई थी। कोसाबाड़ी चौक में दो स्थान पर बेरीकेट्स बनाए गए थे। पहले बेरीकेट्स को पार कर कार्यकर्ता आगे बढ़ने में सफल हो गए, पर टीन की छोटी दीवार का एक और बेरीकेट्स पुलिस ने तैयार कर रखा था। यहां काफी संख्या में तैनात पुलिस बल के सामने कार्यकर्ताओं के मंसूबे पूरे नहीं हो सके। पुलिस के साथ बार-बार धक्कामुक्की व झीनाझपटी होती रही। इस बीच पुलिस ने वाटर केनन से पानी छिड़काव कर भीड़ को पीछे हटाने का प्रयास भी किया, पर कार्यकर्ता पुनः दबाव बनाते रहे। आखिरकार पुलिस के समक्ष कार्यकर्ताओं को आगे बढ़ने में सफलता नहीं मिल सकी। बाद में एसडीएम भास्कर सिंह मरकाम को जकांछ के प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर कोरबा विधानसभा प्रभारी पवन अग्रवाल, गोविंद सिंह राजपूत, दीपनारायण सोनी, विनोद सिंहा, मनीराम जांगड़े, भुवनेश्वर राज, गीता नेताम, संजय पांडेय, सुगना बर्मन, वैभव शर्मा, किरण चौरसिया, हलीम शेख आदि उपस्थित थे।

बाक्स

बैलगाड़ी में सवार होकर जताया विरोध

पᆬोटो नंबर-14केओ8

बढ़ते पेट्रोल और डीजल के दर का विरोध जताने के लिए कार्यकर्ताओं ने बैलगाड़ी भी गांव से साथ लेकर आए थे। सुभाष चौक से इसमें वरिष्ठ नेता रामसिंह अग्रवाल, गोविंद सिंह राजपूत, शिव अग्रवाल समेत अन्य कार्यकर्ता सवार होकर कोसाबाड़ी चौक तक पहुंचे, पर आगे बढ़ने में सफल नहीं हो सके।

बाक्स

मोटरसाइकिल की शव यात्रा, महिलाओं ने पहना काला ड्रेस

दीपक वर्मा, विन्नी राव व मारकंडेय मिश्रा के नेतृत्व में मोटरसाइकिल की शव यात्रा निकाली गई। इस दौरान कनिज पᆬातिमा व कौशिल्या देवी की अगवाई में महिला कार्यकर्ताओं ने काले कपड़े में शामिल होकर विरोध जताया। शव यात्रा लेकर कार्यकर्ता कोसाबाड़ी चौक पहुंचे। बेरीकेट्स की वजह आगे बढ़ने में सफलता नहीं मिलने पर चौक में शव को रखकर आग लगा दिया। इससे हड़बड़ाई पुलिस ने तत्काल वाटर केनन के माध्यम से आग बुझाया और वाहन को जब्त किया। इस दौरान महिलाओं ने बिजली कटौती का विरोध दर्ज कराने लालटेन भी हाथ में रखा था।

वर्सन

केंद्र व राज्य सरकार विकास के नाम पर ढिंढोरा पीट रही है, पर बढ़ती महंगाई ने आमजनों की कमर तोड़ दी है। ऊर्जाधानी के लोग घंटों अंधेरे में निवास करने मजबूर हो गए हैं। किसानों को फसल बीमा का लाभ नहीं मिल रहा है। सरकार विकास यात्रा निकाल कर विकास गिना रही है, पर सच्चाई इससे कोसों दूर है। पार्टी ने सरकार की नीतियों के खिलाफ आंदोलन कर विरोध जताया है।

- रामसिंह अग्रवाल, वरिष्ठ नेता, जकांछ

--

सरकार की कार्यप्रणाली से आमजन त्रस्त हो चुके हैं। नीयत व नीति साफ नहीं है। गरीब परिवार महंगाई से परेशान हो उठा है और इनकी ओर से मोबाइल बांटने की प्रक्रिया शुरू की गई है। महंगाई समेत क्षेत्र के लोगों की जायज मांग को लेकर रैली निकाल कलेक्टोरेट घेराव करने जा रहे थे, पर सरकार के इशारे पर पुलिस ने रास्ते में जबरन रोककर पानी का छिड़काव किया।

- शिव अग्रवाल, जिलाध्यक्ष जकांछ

--

पंद्रह सूत्रीय मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा गया है। कलेक्टोरेट तक भीड़ न पहुंचे, इसके लिए बेरीकेट्स लगाए गए थे। कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी नहीं की गई है।

- भास्कर सिंह मरकाम, एसडीएम