0 तीन स्तर की सुरक्षा से गुजरना होगा मतगणना कक्ष तक पहुंचने

0 11 दिसंबर को मतगणना की तैयारियों को ले कलेक्टर की पत्रवार्ता

-फोटो-2 प्रेसवार्ता में कलेक्टर, एसपी व अन्य अधिकारी

अंबिकापुर । नईदुनिया प्रतिनिधि

विधानसभा चुनाव की मतगणना 11 दिसंबर को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सुबह आठ बजे से शुरू होगी। सुबह सात बजे सुरक्षा के बीच स्ट्रांग रूम खोला जाएगा। सुरक्षागत कारणों से यहां वाईफाई एवं इंटरनेट सेवा उपलब्ध नहीं होगी। यह जानकारी आज कलेक्टर सरगुजा व जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. सारांश मित्तर ने प्रेसवार्ता में दी।

कलेक्टर ने कहा कि मीडिया सेंटर में हर राउंड के गिनती के बाद जानकारी दी जाएगी, किंतु एक साथ सभी मीडियाकर्मियों को मतगणना कक्ष में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। मतगणना कक्ष में मोबाइल पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। स्टील कैमरा का उपयोग किया जा सकता है। कलेक्टर ने बताया कि सुबह आठ बजे से मतगणना शुरू होगी। मीडिया सेंटर या मतगणना कक्ष के आसपास किसी भी दल के प्रत्याशी से बातचीत नहीं की जा सकेगी, इसके लिए स्ट्रांग रूम के बाहर जगह बनाई गई है। सुरक्षा व्यवस्था के लिहाज से प्रत्याशियों के साथ उनके एजेंटों को भी आयोग के दिशा-निर्देश मानने होंगे। स्ट्रांग रूम में प्रवेश के लिए भी अलग-अलग व्यवस्था की गई है। इस दौरान एसपी सदानंद कुमार ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जानकारी दी। मौके पर सहायक कलेक्टर आकाश छिकारा, जनसंपर्क संयुक्त संचालक संतोष सिंह उपस्थित थे।

सुबह साढ़े सात तक लिए जाएंगे डाक मतपत्र

जिला निर्वाचन अधिकारी व कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने बताया कि मतगणना तिथि की सुबह 7.30 बजे तक डाक मतपत्र लिए जा सकेंगे। जिले में कुल 3602 डाक मत पत्र जारी किए गए हैं। अब तक 3203 डाक मत पत्र प्राप्त हो चुके हैं। इनमें लुंड्रा के 715, अंबिकापुर के 1368 व सीतापुर विधानसभा क्षेत्र के 1120 डाक मतपत्र शामिल है। मतदान कर्मी चाहे तो मतगणना के दिन सुबह साढ़े सात बजे तक डाक मतदान कर सकते हैं।

मेण्ड्रा व लब्जी मतदान केंद्र की वीवीपीएटी पर्ची से होगी गणना

कलेक्टर ने बताया कि अंबिकापुर विधानसभा क्षेत्र के मेण्ड्रा व लब्जी मतदान केंद्र की ईवीएम में कैद वोटों की गिनती मशीन के साथ वीवी पीएटी पर्ची से होगी, क्योंकि यहां मतदान के दिन मॉक पोल के बाद उसे डिलिट नहीं किया था। जिले में केवल दो स्थानों पर ही ऐसी स्थिति निर्मित हुई थी।

ये जनप्रतिनिधि नहीं बन सकेंगे मतगणना एजेंट

कलेक्टर डॉ. मित्तर ने बताया कि आयोग के प्रावधानों के तहत किसी भी प्रत्याशी के लिए सांसद, विधायक, महापौर, जिला पंचायत अध्यक्ष, जनपद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एजेंट नियुक्त नहीं हो सकेंगे न ही इन्हें मतगणना स्थल पर जाने की अनुमति होगी। हालांकि अधिकांश विधायक प्रत्याशी हैं इसलिए उनके लिए यह प्रावधान लागू नहीं होगा।