बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

पीएचई ने गांधी चौक से आगे मुख्य मार्ग में एक जगह ऐसा वाल्व लगाया है जो दो साल से लगातार बह रहा है। अब निगम गांधी चौक से जगमल चौक तक सड़क डामरीकरण का काम करा रहा है। जिस जगह पर लीकेज है उस जगह को हालांकि छोड़ दिया गया है,लेकिन उसके पास हो रहा डामरीकरण गीली जमीन पर किया जा रहा है। इससे सड़क बनने के कुछ दिनों में ही उखड़ने का अंदेशा है।

शहर में प्री मानसून की बारिश शुरू हो गई है। इसके अलावा क्षतिग्रस्त पाइप लाइन के कारण भी कई जगहों पर जमीन गीली है। इससे सबसे ज्यादा परेशानी इन दिनों सड़क निर्माण में हो रही है। गीली जमीन पर डामरीकरण करने से उसके उखड़ने का अंदेशा रहता है। गांधी चौक से जगमल चौक वाली सड़क पर वैसी ही स्थिति पैदा हो रही है। चौक से थोड़ा आगे पानी बंद चालू करने के लिए वाल्व लगा है। उसमें लीकेज होने के कारण जैसे ही नल खोलने का समय होता है,उसमें से पानी सड़क पर बहने लगता है। निगम ने डामरीकरण के लिए उस हिस्से को तो छोड़ दिया,लेकिन उससे सटकर जरूर डामरीकरण का काम हो रहा है। वहां भी जमीन लीकेज के कारण गीली है। ऐसे में यहां का डामरीकरण ज्यादा टिकने की संभावना नहीं के बराबर है।

जल शाखा मरम्मत से कतरा रही

निगम जल शाखा का अमला वाल्व को ठीक करने से कतरा रहा है। इसके पीछे कारण है कि जिस तरह का वाल्व वहां लगा है वह चलन से बाहर हो चुका है। वहां दूसरा वाल्व लगाने के लिए पूरा सिस्टम बदलना होगा। इसके लिए कम से कम दो से तीन दिन तक सैकड़ों घरों में पेयजल सप्लाई बंद करके काम करना होगा। वैसे ही लोग पेयजल समस्या से जूझ रहे हैं। ऐसे में लाइन बंद होने से उनके विरोध का सामना करना पड़ सकता है। इसे देखते हुए वाल्व को वैसे ही छोड़ दिया गया है।

मानसून से पहले डामरीकरण की होड़

नगर निगम प्रशासन ने शहर की लगभग सभी सड़कों को नया बनाने का काम स्वीकृत कर दिया है। अब उन सड़कों को बनाने का काम चल रहा है। विशेषकर डामरीकरण का काम बारिश से पहले कराना है,क्योंकि जैसे ही मानसून की दस्तक हुई डामरीकरण बंद हो जाएगा। यही कारण है कि निगम के इंजीनियर इन दिनों पूरी क्षमता से डामर के काम को प्राथमिकता से करा रहे हैं।

जिस जगह पर लीकेज है वहां हम डामरीकरण नहीं कर रहे हैं। उस पैच को छोड़ दिया गया है। जहां डामरीकरण हो रहा है वह पूरी तरह से सूखा है। यहां काम होने के बाद कोई दिक्कत नहीं होगी।

मनोरंजन सरकार

कार्यपालन अभियंता, नगर निगम