सुकमा। बुधवार को 18 स्थायी वारंटी नक्सलियों ने मरईगुड़ा थाने में एसडीओपी व सीआरपीएफ के अधिकारियों के समक्ष आत्मसमर्पण किया है। सभी लंकापल्ली आंध्र प्रदेश के निवासी हैं। पुलिस के मुताबिक इन पर पुलिस पार्टी पर फायरिंग करने का आरोप है। नक्सलियों को शासन की पुनर्वास नीति योजना के अंतर्गत लाभ दिया जाएगा।

समर्पित नक्सली

मड़कम मासा, बंजाम जितेंद्र, सोढ़ी मंगू, कुर्रम जोगा, बंजाम भीमा, मुचाकी लखमा, कवासी हूंगा, मुचाकी भीमा, माड़वी कोसा, मड़कम कोसा, बंजाम हूंगा, पदाम हिड़का, मड़कम सुकड़ा, मड़कम नरेया, माड़वी जोगा, बंजामी एर्रा, कवासी राजू, कवासी हिड़मा।

7 जवानों की शहादत जर घटना में शामिल नक्सली ने किया सरेंडर

दंतेवाड़ा। नक्सली जनमिलिशिया कमांडर ने बुधवार को पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। उस पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित था। एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव के मुताबिक किरंदुल थाना क्षेत्र के मड़कामीरास पटेलपारा निवासी मंगडू पुत्र आयतु कश्यप मलांगिर एरिया कमेटी में जनमिलिशिया कमांडर था। साथियों के साथ मिलकर उसने वर्ष 2012 में सीआइएसएफ जवानों के वाहन पर हमला किया था। इसमें वाहन चालक और सात जवान शहीद हुए थे। वर्ष 2015 में चोलनार निवासी कांग्रेस नेता सन्नू और वर्ष 2016 में इसी इलाके के विजय मंडावी को पुलिस का मुखबिर बताकर हत्या कर दी थी।