पᆬोटोः14जानपी 15-लिखित आश्वासन देते तहसीलदार

गांव में बेजाकब्जा हटाने की मांग को लेकर शुरू किया था महाव्रत

जांजगीर-जैजैपुर। नईदुनिया न्यूज। सरकारी योजनाओं में प्रशासन द्वारा सहयोग नहीं करने का आरोप लगाते हुए आज ग्राम पंचायत पसराडीह के सरपंच व ग्रामीणों ने जनपद कार्यालय के सामने अनिश्चित कालीन आंदोलन शुरू कर दिया। इसकी सूचना मिलने पर तहसीलदार मौके पर पहुंचे और शीघ्र कार्रवाई करने का लिखित आश्वासन दिया। इसके बाद आंदोलन समाप्त हो गया।

जैजैपुर ब्लाक के परसाडीह पंचायत में हुए बेजाकब्जा को हटवाने और शासन से स्वीकृत व्यवसायिक परिसर निर्माण कार्य करने के लिए प्रशासन से गुहार लगाते गांव के जनप्रतिनिधि थक चुके, बावजूद इसके प्रशासन द्वारा अवैध कब्जाधारियों पर कार्रवाई नहीं की जा रही थी। उनका कहना था कि जैजैपुर जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत परसाडीह में 15.40 लाख रुपए वयवसायिक परिसर निर्माण के लिए राशि की स्वीकृति हुई है। लेकिन पंचायत के द्वारा निर्माण कार्य के लिए प्रस्तावित शासकीय भूमि को गांव के कुछ लोगों ने अवैध रूप से कब्जा कर रखा है। जिसके चलते शासन से प्राप्त राशि का निर्माण कार्य में पंचायत उपयोग नहीं कर पा रही है और पंचायत में होने वाले विकास कार्य नहीं हो पा रहा है। जिसको हटाने और निर्माण कराने सरपंच के द्वारा बीते सोमवार को प्रशासन को ज्ञापन सौंप कर बेजाकब्जा हटाने की मांग की गई थी, लेकिन प्रशासन द्वारा अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। ऐसे में उनके द्वारा अतिक्रमण नहीं हटाने पर महाव्रत रखने की चेतावनी भी प्रशासन को दी गई थी, लेकिन विकास कार्यो को कराने और पंचायत से बेजाकब्जा हटाने में प्रशासन ने कोई रूचि नहीं ली। आज ग्राम पंचायत के सरपंच जैजैपुर तहसील कार्यालय के सामने महाव्रत उपवास पर बैठ गए। इसकी सूचना मिलने पर सक्ती एसडीएम के निर्देशों का हवाला देते हुए जैजैपुर तहसीलदार मनोज कुमार खांडे धरना स्थल पहुंचे। यहां सरपंच तेजराम रत्नाकर को लिखित आश्वासन देते हुए 15 दिवस के भीतर पंचायत में बेजाकब्जा की जांच कर हटाने की बात कही। इसके बाद आंदोलन समाप्त हुआ।

---------------------------------------------------