रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

प्रदेश की राजधानी में हर एक घंटे में अपराध दर्ज होते हैं। यह आंकड़ा जिला पुलिस के पास 2018 में दर्ज किए गए प्रकरणों से सामने आया है। पुलिस ने तकरीबन साढ़े आठ हजार आपराधिक प्रकरण दर्ज होने के दावे किए हैं। साल के हिसाब से 24 घंटे के अंदर अपराध का ग्राफ औसतन 23.28 है। इस लिहाज से माना जा सकता है कि शहर और देहात के थानों में हर एक घंटे के अंदर आपराधिक मामले दर्ज हो रहे हैं। पुलिस का दावा है पिछले सालों की तुलना में अपराध का ग्राफ घटा है। शहर में संगीन अपराधों की तुलना पिछले सालों की तुलना में हो सकती है। दर्ज आपराधिक रिकॉर्ड का फिलहाल पुलिस कोई ग्राफ तैयार नहीं कर सकी है, जिससे किस तरह के अपराधों के प्रकरण सबसे ज्यादा हैं, लेकिन 2018 में पुलिस की कार्रवाई से आकलन किया जा सकता है। सबसे ज्यादा आर्थिक अपराध शहर में हुए हैं। भंग होने के पहले क्राइम ब्रांच ने तकरीबन दो सौ प्रकरणों में आर्थिक अपराधों का पर्दाफाश किया है। संगीन अपराधों के मामले में देहात के प्रकरण सबसे ज्यादा अनसुलझे रहे हैं। डबल मर्डर मिस्ट्री से लेकर पूर्व सरपंच की पत्नी की हत्या और फिर लूटपाट की घटनाएं अनसुलझी रही हैं।

साइबर ठगी के साथ धोखेबाजों पर फोकस

2018 में रायपुर पुलिस की तरफ से साइबर ठगी और जमीन, चिटफंड कारोबार के जरिए लोगों से धोखाधड़ी करने के मामले में फरार रहने वाले आरोपियों की धरपकड़ करने में फोकस किया गया। एसएसपी अमरेश मिश्रा के दिशा निर्देश में पुलिस टीमों ने तकरीबन दो सौ मामलों में कार्रवाई की। इतने मामलों में डेढ़ सौ से ज्यादा आरोपी दबोचे गए। चिटफंड कारोबार के साथ कॉल सेंटर के जरिए लोगों से ठगी के मामले में अंतर्राष्ट्रीय गैंग का पर्दाफाश दिल्ली से किया गया।

देहात में पिछड़ गई पुलिस, बढ़ते गए मामले

जिले में देहात के हिस्सों में पुलिस की जांच काफी पिछड़ी हुई है। ब्लाइंड मर्डर मिस्ट्री के केस नहीं सुलझ सके। खरोरा डबल मर्डर का केस अहम है जहां एक नाबालिग के साथ महिला को हत्यारे ने जिंदा जला दिया। शव बरामद कर पुलिस नतीजा देने विफल रही। बता दें इसके पहले सेजबहार बस्ती में पूर्व सरपंच की पत्नी की हत्या, छछानपैरी में पूर्व विधायक के घर बुजुर्ग की हत्या के प्रकरण भी सुलझाने में चुनौतियां बढ़ीं।

चर्चित मामलों में घिरी पुलिस जांच

- भाठागांव में एक नेता के फार्म हाउस में गोली चलने की घटना का पर्दाफाश नहीं हुआ। रसूखदार परिवार में पूर्व महापौर के बेटे ने आरोप लगाया कि फार्म हाउस में घुसकर उस पर अज्ञात ने गोलियां बरसाईं। किसी तरह से उसने अपनी जान बचाई। पुलिस जांच में हमलावर बेनकाब नहीं हुए, लेकिन इसी फार्म हाउस से लगे हिस्से में अवैध पिस्टल व कारतूस बरामद हुए।

- आर्थिक अपराधों की जांच में सेल टैक्स घोटाला करने में संदिग्ध कारोबारियों पर शिकंजा कसने पुलिस की कार्रवाई संदेह के दायरे में रही है। बड़े कारोबारियों के नाम सामने आने के बाद ज्यादातर कंपनियों के छोटे कर्मचारी हिरासत में लिए गए। कर्मचारियों के नाम पर करोड़ों रुपये के सेल टेक्स चोरी करने वाले ज्यादातर रसूखदार बच निकले।

- 200 से ज्यादा मामलों में पुलिस की जांच तेज करके आर्थिक अपराधों का निपटारा किया गया, लेकिन ब्लाइंड मर्डर मिस्ट्री के 12 से ज्यादा मामलों में फाइलें थानों में दबाई गईं। नया रायपुर में हिस्ट्रीशीटर के गैंग ने बड़े अपराध को अंजाम दिया। कोलकाता के कारीगर की एक आइएएस के भाई ने हत्या की, आज तक फरार है।

वर्सन

पुराने आपराधिक प्रकरणों की जानकारी मांगी है। थानों से रिकॉर्ड सामने आने के बाद अपराधों की समीक्षा होगी। संगीन अपराध के मामलों में प्रकरणों को जल्द से जल्द सुलझाने प्रयास होगा। पेंडिंग मामले पहले सुलझाए जाएंगे। - नीथू कमल, एसपी रायपुर