रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

राज्य में स्कूली शिक्षा में बच्चों की उपलब्धि स्तर को सुधारने के लिए राज्य सरकार ने इस साल निखार कार्यक्रम शुरू किया है। इसी कड़ी में 20 मई से राजधानी के दानी गर्ल्स हायर सेकंडरी स्कूल में सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक निखार कार्यक्रम चलाया जाएगा। जिला शिक्षा अधिकारी जीआर चंद्राकर ने बताया कि सभी विषयों के लिए मास्टर ट्रेनर्स तैयार हो चुके हैं, ये शिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे। बता दें कि पहली बार शासकीय स्कूलों के आठवीं और नौवीं के बच्चों की उपलब्धियों में सुधार के लिए निखार कार्यक्रम शुरू किया गया है। दूसरे साल मिडलाइन के तहत आकलन किया जाएगा और बच्चों की बौद्धिक क्षमता के विकास के लिए प्रयास किए जाएंगे।

प्रशिक्षित शिक्षक बच्चों पर करेंगे फोकस

कार्यक्रम के अंतर्गत कमजोर वर्ग के बच्चों के लिए नियमित कक्षाओं में 69 दिनों के भीतर 200 घंटे की कक्षाएं आयोजित की जाएंगी। इसमें 18 दिन का फाउंडेशन पाठ्यक्रम पढ़ाया जाएगा। फाउंडेशन पाठ्यक्रम के अंतर्गत प्रतिदिन एक-एक घंटे की हिन्दी, अंग्रेजी, गणित एवं विज्ञान की कक्षाओं का आयोजन किया जाएगा। गौरतल है कि प्रथम चरण में राज्य के दस जिलों बीजापुर, कांकेर, महासमुन्द, गरियाबंद, रायपुर, दुर्ग, बलौदाबाजार, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा और कोरबा में ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान मास्टर्स ट्रेनर्स तैयार करके अब शिक्षकों को प्रशिक्षण दे रहे हैं। गौरतलब है कि इस साल राज्य सरकार ने पहली से लेकर आठवीं तक के 30 लाख बच्चों का स्टेट लेवल असेसमेंट (एसएलए) किया है। बेसलाइन के परिणाम के बाद कमजोर स्तर के बच्चों के लिए निखार कार्यक्रम प्रभावी होगा।

--------