दंतेवाड़ा। कुआकोंडा थाना क्षेत्र के पालनार इलाके से एक बार फिर शर्मसार कर देने वाली वारदात सामने आई है। झाड़ियां लेने शुक्रवार को जंगल गई एक युवती रविवार की सुबह नाले के पास बेहोश मिली। परिजनों की सूचना पर पुलिस ने युवती को नकुलनार और फिर जिला हॉस्पिटल में भर्ती कराया। परिजन और सर्व आदिवासी समाज युवती के साथ अनाचार की आशंका जता रहे हैं। इसी आधार पर सुबह ही कुआकोंडा थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया गया है।

इधर जिला हॉस्पिटल में भर्ती युवती होश में तो आ गई है लेकिन फिलहाल कुछ बोल नहीं रही है। उसका मेडिकल जांच जिला हॉस्पिटल में तीन डॉक्टरों की टीम ने किया। प्रारंभिक जांच में अनाचार जैसी कोई लक्षण होने से डॉक्टर इंकार कर रहे हैं। ग्रामीणों को दावा है कि शुक्रवार को पालनार बाजार था और इलाकें में सीआरपीएफ जवान सर्चिंग पर थे। सर्वसमाज के पदाधिकारियों का कहना है कि मामले की निष्पक्ष जांच हो।

शुक्रवार से गायब थी युवती

पीड़िता के पिता ने पुलिस और समाज पदाधिकारियों को बताया कि युवती शुक्रवार को पास के पहाड़ी इलाके में झाड़ियां लेने गई थी। शाम को घर नहीं लौटी तो आसपास उसे खोजा गया। शनिवार को भी गांव वालों के साथ पहाड़ी और जंगल में ढूंढा लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला। रविवार की सुबह फिर ग्रामीणों के साथ खोजने निकले थे तो नाले के पास कटी झाड़ियां, बंडा मिला। साथ ही मिट्टी में जूतों के और किसी को घसीटने के निशान भी। निशान को देखते आगे बढ़े तो नाले उस पार युवती बेहोश पड़ी थी। ग्रामीणों की माने तो मौके पर पीड़िता की टूटी चुड़ियां भी है।

जांच में अनाचार की पुष्टि नहीं

उपचार के लिए युवती को जिला हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। जहां स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. गीता नेताम सहित डॉ.प्रेमशंकर बघेल और डॉ. एसपी कोशरिया की टीम ने मेडिकल जांच की। सीएस डॉ. एमके नायक ने बताया कि प्रारंभिक जांच में अनाचार जैसे लक्षण नहीं पाए गए हैं। लेकिन युवती बेहोश कैसे हुई, के सवाल को डॉ. नायक टाल गए। डॉ. नायक ने यह भी कहा कि अभी युवती पहले से बेहतर है। पूरी तरह बोलने की स्थिति में नहीं है। अपनी मां को पहचान भी लिया है। 24 घंटे के भीतर पूरी तरह से स्वस्थ होगी तो पूछताछ किया जाएगा।

पल- पल की जानकारी ले रहे एसपी

अनाचार जैसे गंभीर आरोप और आशंका के मद्देनजर एसपी डॉ. पल्लव मामले को लेकर संजीदा हैं। पूरे मामले की जानकारी अधिकारियों से ले रहे हैं। वे महिला पुलिस और हॉस्पिटल स्टॉफ से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं और पल- पल की जानकारी ले रहे हैं। चर्चा में एसपी ने कहा कि युवती के शरीर में बाहरी चोट नहीं है। प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में अनाचार जैसे लक्षण नहीं आए हैं। बावजूद कुआकोंडा थाने में 376 के तहत अपराध दर्ज किया गया। युवती के होश पर आने और बयान के बाद आगे की कार्रवाई तेज की जाएगी। फिलहाल उसके स्वस्थ होने का इंतजार है।

परिस्थितियां सही नहीं है

मामले की सूचना पर घटना स्थल और हॉस्पिटल सर्व आदिवासी समाज के सदस्य और पदाधिकारी पहुंचे। दिन भर समाज सदस्य भी युवती के स्वास्थ्य और घटना संबंधित जानकारी एकत्र करते रहे। इनमें समाज सेवी सोनी सोरी, पूर्व विधायक नंदा सोरी, कमला सोरी, बल्लू भवानी सहित कांग्रेस महिला कांग्रेस की जिलाध्यक्ष तुलिका कर्मा और दीपक कर्मा भी शामिल थे। मीडिया से चर्चा में पदाधिकारियों ने कहा कि वे किसी पर कोई आरोप नहीं लगा रहे हैं। लेकिन घटना स्थल और परिस्थितियां सही नहीं है।