रायपुर। छत्तीसगढ़ी रैप सॉन्ग रसगुल्ला राजा इस समय यू-ट्यूब को सोशल मीडिया में जबरदस्त ट्रेंड कर रहा। युवाओं द्वारा छत्तीसगढ़ी भाषा में काफी पसंद किया जा रहा है। इस गाने को भानुप्रतापपुर के चेतन चांडक उर्फ एप्पी राजा ने गाया है। इसलिए इन्हें इन दिनों छत्तीसगढ़ का Gully Boy कहा जा रहा है। छोटे से शहर में रहने के बावजूद उनके गाने सोशल मीडिया पर धूम मचा रहे हैं।

अब तक लाखों लोगों ने इसे देखा है। गाने में छत्तीसगढ़ भाषा के साथ बस्तर सहित अन्य जगहों के बारे में बताया गया। अब तक एप्पी राजा कई गाने यू-ट्यूब में वीडियो के साथ अपलोड कर चुके हैं।

छत्तीसगढ़ी भाषा के अलावा एप्पी ने पंजाबी में भी रैप सॉन्ग गाए और लिखे हैं। 6 सितंबर 2016 में एप्पी राजा ने छत्तीसगढ़ी भाषा में पहला रैप सॉन्ग भाकोलोलो रिलीज किया था। जिसका शानदार रिस्पॉस मिला। जिसके बाद एप्पी बीते साल 6 सितंबर को हर साल एक छत्तीसगढ़ी भाषा में सॉन्ग रिलीज करने की बात कही।

आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, इसलिए छोड़ दी पढ़ाई

चेतन चांडक (एप्पी राजा) के माता पिता जैसलमेर (राजस्थान) से हैं। वे छत्तीसगढ़ के बेमेतरा गांव में सन 1987 में आए थे। कुछ सालों बाद वे बेमेतरा से नवागढ़ आए, जहां उनकी किराना दुकान थी। 1994 में एप्पी का नवागढ़ में ही जन्म हुआ।

एप्पी राजा ने बचपन के 7-8 वर्ष दुर्ग में बीते, वहीं पढ़ाई भी की। जिसके बाद सन 2002 से वो भानुप्रतापपुर (कांकेर) में रहने लगे। मिडिल क्लासेस पहुंचने के बाद एप्पी राजा पढ़ाई करने भानुप्रतापपुर से कांकेर तक जाते थे। कांकेर के निजी स्कूल में उन्होंने अपना पहला रैप 7वीं कक्षा में कक्षा में बैठकर लिखा।

एप्पी जब 11वीं में पढाई कर रहे थे तब उनके पिता को हार्ट अटैक आया, जिसके बाद उनके इलाज के लिए एप्पी हैदराबाद गए। पिता का ऑपरेशन करवाने के 3 महीने बाद वो हैदराबाद से वापस भानुप्रतापपुर लौटे। गांव में उनके पिता का व्यापार भी खत्म हो चुका था।

जिस वजह से परिवार की आर्थिक स्थिति खराब हो गई। एप्पी ने अपनी 11वीं की पढाई छोड़ दी और गुजरात चले गए। सूरत शहर में एक कपड़े की दुकान में नौकरी करने लगे। गांव में उनकी माता ने सिलाई का काम शुरू कर किया था।

एप्पी ज्यादा दिन तक सूरत में नहीं रह सके काम छोड़ कर वापस आ गए। भिलाई में मोबाइल रिपेयरिंग का काम सीखा लेकिन वो भी ज्यादा दिन तक नहीं कर सके। बाद में वह पंजाब गए। जहां एक म्यूजिक डायरेक्टर ने स्टूडियों में रहने की जगह दी।

मौका हाथ लगते ही एप्पी दिन रात गाने बनाने लगे और उन्हें यू-ट्यूब पर अपलोड किया। धीरे-धीरे उनके गाने इंटरनेट के माध्यम से पॉपुलर होने लगे। जिसके बाद छत्तीसगढ़ी में पहला रैप बनाया। भोकोलोलो रैप सॉन्ग यू-ट्यूब में वायरल होते ही धूम मचा दी। और लाखों में ट्रेंड किया।