Naidunia
    Saturday, February 24, 2018
    Previous

    अंकित की शोकसभा से उठकर गए केजरीवाल, मचा सियासी बवाल

    Published: Tue, 13 Feb 2018 03:44 PM (IST) | Updated: Tue, 13 Feb 2018 05:21 PM (IST)
    By: Editorial Team
    ankit father 2018213 16334 13 02 2018

    नई दिल्ली। अंकित की हत्या को सोमवार को तेरह दिन हो गए। इस मौके पर तेरहवी के कार्यक्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शिरकत तो की, लेकिन वह प्रोग्राम को बीच में ही छोड़कर चले गए। लाचार और बेबस अंकित के पिता उनको पीछे से पुकारते रहे और आखिरी में उनको अपनी बेबसी के साथ कहना पड़ा कि' प्लीज मेरे साथ गेम मत खेलो।' आप से निष्कासित नेता कपिल मिश्रा ने इसका एक वीडियो शेयर किया है।

    आप से निष्कासित नेता कपिल मिश्रा ने इस कार्यक्रम को एक वीडियो शेयर किया है। इसमें कपिल मिश्रा ने लिखा कि, 'दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल अंकित सक्सेना की शोक सभा में शामिल होने और उनके परिवार से मिलने उनके घर गए थे, लेकिन वहां उन्होंने जो व्यवहार किया वो बहुत आपत्तिजनक है।'

    कपिल के मुताबिक, 'अंकित के परिजनों ने जब कहा की जीवनयापन मुश्किल हो रहा है आप एक सहायता राशि की घोषणा कीजिए तो उनके बोलते हुए ही केजरीवाल सभा से उठ के चल दिए। अंकित के पिता पीछे से उन्हें पुकारते रहे और अंत में उन्हें कहना पड़ा कि मेरे साथ गेम मत खेलो। ये बहुत अपमानजनक है, क्या मुख्यमंत्री वहां उनका अपमान करने गए थे ! शोक सभा से ऐसे नहीँ जाया जाता।'

    गौरतलब है अंकित की तेरहवीं पर शोकसभा आयोजित की गई थी। दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत कई प्रमुख दलों के नेतागण इस कार्यक्रम में शामिल हुए। केजरीवाल को देख यहां जुटे लोगों ने एक करोड़ मुआवजे की मांग रखी। इन लोगों ने दिल्ली सरकार द्वारा अंकित सक्सेना के परिजनों के लिए जिस रकम की घोषणा की गई है उसे लेकर भी विरोध जताया।

    मुआवजे की चर्चा के बीच अरविंद केजरीवाल प्रार्थनासभा बीच में ही छोड़कर चले गए। इसके बाद विपक्षी पार्टियाें को मानो एक सुनहरा मौका मिल गया। प्रार्थना सभा में मौजूद भाजपा नेता व सांसद मनोज तिवारी ने भी केजरीवाल सरकार को आड़े हाथों लिया।

    दिल्‍ली भाजपा अध्‍यक्ष मनोज तिवारी ने भी अंकित के परिवार को एक करोड़ रुपए का मुआवजा देने की मांग की। मनोज तिवारी ने कहा कि अगर दिल्ली सरकार एमएम खान की मौत पर एक करोड़ रुपए दे सकती है तो अंकित सक्सेना के परिवार वालों को क्यों नहीं। उन्‍होंने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार साम्प्रदायिक भेदभाव कर रही है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें