गुरुग्राम। 52 साल के एक व्यापारी के फोन पर एक मोबाइल एप्लीकेशन ऑटोमैटिकली इंस्टॉल हो गई जिसके बाद उसके अकाउंट से 60 हजार रुपए गायब हो गए। उसके मुताबिक उसके मोबाइल फोन पर एक लिंक आई तो उसे जैसे ही उसने क्लिक किया तो ऐप ऑटोमैटिकली इंस्टॉल हो गई।

इन्वेस्टिगेटिंग ऑफिसर के मुताबिक यह धोखाधड़ी सितंबर 2018 में हुई थी। इंडिय पेनल कोड के सेक्शन 420 के अंतर्गत सेक्टर 10 पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई। शिकायतकर्ता का नाम हरिश चंदर था। यह घटना 10 सितंबर हुई जब शिकायतकर्ता सुबह उठा तो पाया कि दो ऑनलाइन ट्रांजेक्शन में उसके अकाउंट से 60,000 रुपए डेबिट हुए।

उसके मोबाइल पर रात 2.30 बजे ओटीपी आया था और ऑटोमैटिकली किसी और नंबर पर सेंड हो गया। तीन दिन पहले शिकायतकर्ता के पास एक मैसेज आया था जिसमें उसके इनकम टैक्स रिटर्न में मदद के लिए पूछा गया था। उस मैसेज में आगे एक लिंक थी और उसे क्लिक करते ही ऐप अपने आप इंस्टॉल हो गया। हालांकि जब चंदर बैंक अधिकारियों के पास गया तो उन्होंने बताया कि उसके अकाउंट से पैसा ऐप की हैकिंग की वजह से गया।