Naidunia
    Sunday, December 17, 2017
    PreviousNext

    दिल्ली के मुख्य सचिव ने मेट्रो किराया बढ़ाने के मामले की जांच से किया इंकार

    Published: Fri, 13 Oct 2017 05:56 PM (IST) | Updated: Fri, 13 Oct 2017 11:01 PM (IST)
    By: Editorial Team
    kejriwal attacks on kutty 13 10 2017

    नई दिल्ली। मेट्रो किराये के मामले में दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव एमएम कुट्टी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से स्पष्ट कहा है कि वह इसकी जांच नहीं कर सकते हैं। 10 अक्टूबर से मेट्रो किराये में बढ़ोतरी के एक दिन बाद मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) की वित्तीय स्थिति व किराया बढ़ोतरी के कारणों की जांच कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया था।

    एमएम कुट्टी ने शुक्रवार की दोपहर को मुख्यमंत्री को सूचित किया कि वह मेट्रो किराया वृद्धि मामले की जांच नहीं कर सकते हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने शाम को उन्हें अपने आवास पर तलब किया। उनसे मुलाकात के दौरान भी मुख्य सचिव ने स्पष्ट कहा कि इस तरह की जांच उनके अधिकार क्षेत्र में ही नहीं आती है।

    सोची-समझी साजिश का हिस्सा है किराया बढ़ोत्तरी- आप

    आम आदमी पार्टी की सरकार इसे सोची-समझी साजिश का हिस्सा करार दे रही है। सरकार का कहना है कि मेट्रो किराये में बढ़ोतरी से लोग परेशान हैं। डीएमआरसी ने वित्तीय स्थिति का हवाला देकर किराया बढ़ाने की बात कही है। ऐसे में दिल्ली सरकार को पूरा अधिकार है कि वह डीएमआरसी द्वारा किराया बढ़ाने के कारणों की जांच करे।

    आम आदमी पार्टी (आप) सरकार और नौकरशाही के बीच संबंध शुरुआत से ही खराब रहे हैं। नौकरशाह आरोप लगाते हैं कि सरकार दबाव की राजनीति करती है। सरकार कई फैसले उपराज्यपाल को बताए बिना लेती है, जिससे आए दिन उपराज्यपाल और सरकार के बीच टकराव चलता रहता है।

    दो अक्टूबर को पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री की जयंती के मौके पर विजय घाट में आयोजित समारोह से दिल्ली सरकार के करीब सभी आला अधिकारी नदारद रहे, जबकि इसमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पहुंचे थे। इसका आयोजन दिल्ली सरकार के कला, संस्कृति एवं भाषा विभाग ने किया था। अधिकारियों के इस रवैये को देख मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मुख्य सचिव एमएम कुट्टी को समन जारी कर जवाब मांगा था।

    बता दें कि मेट्रो किराया बढ़ोत्तरी पर एक बार फिर से केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार आमने-सामने है। मेट्रो किराये में वृद्धि का आप जमकर विरोध कर रही है। खुद सीएम केजरीवाल भी केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी को कई दफा चिट्ठी लिखकर विरोध जता चुके हैं।

    मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जब केजरीवाल सरकार ने मुख्य सचिव कुट्टी को एक पत्र लिखकर निर्देश दिए थे कि किराया बढ़ोतरी को लेकर वो डायलॉग एंड डेवलेपमेंट कमीशन को 6 मुद्दों पर जांच करने के आदेश जारी करें। हालांकि, कुट्टी ने इससे इन्कार कर दिया था।

    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के मुख्य सचिव एमएम कुट्टी पर बड़ा आरोप लगाते हुए उन्हें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का जासूस बताया है। केजरीवाल ने कहा कि मुख्य सचिव कुट्टी भाजपा के जासूस की तरह काम कर रहे हैं।

    ये हैं वो 6 सवाल -

    1. मेट्रो किराया बढ़ाना कहां तक उचित है?

    2. क्या मेट्रो किराये में बढ़ोतरी से बचा जा सकता था?

    3. क्या दिल्ली मेट्रो अपनी अधिकतम क्षमता के साथ काम कर रही है?

    4. दिल्ली मेट्रो क्या अन्य स्रोतों से आय अर्जित नहीं कर सकती थी?

    5. क्या दिल्ली मेट्रो के संचालन में कोई कमी है?

    6. क्या दिल्ली सरकार के नुमाइंदे ने अपनी बात बोर्ड में सही तरीके से नहीं रखी?

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें