नई दिल्ली। दिल्ली हाई कोर्ट ने मोबाइल APP आधारित होटल सेवा प्रदाता कंपनी Oyo के खिलाफ कोई भी नोटिस जारी करने, या उस पर प्रतिबंध लगाने से विभिन्न होटल मालिक एसोसिएशन को रोक दिया है।

हाई कोर्ट ने अंतरिम आदेश में कहा कि होटल मालिक एसोसिएशन की कार्रवाई अन्य होटल मालिकों और सेवा प्रदाताओं को Oyo के नाम से काम कर रही कंपनी ओरावेल स्टेज प्राइवेट लिमिटेड के साथ हुए समझौते का उल्लंघन करने को मजबूर कर रही है।

अदालत ने कहा कि ओयो का अन्य होटल मालिकों और सेवा प्रदाताओं के साथ वैध समझौता है। ऐसे में एसोसिएशन द्वारा कंपनी के बहिष्कार का आह्वान पहली नजर में अवैध व गैरकानूनी होगा।

Oyo ने एसोसिएशन और उसके सदस्यों द्वारा बगैर तारीख वाले नोटिस के माध्यम से किसी भी तरह की धमकी देने पर एकतरफा रोक लगाने के लिए याचिका दायर की थी।

याचिका पर पीठ ने कहा कि एसोसिएशन द्वारा कथित रूप से जारी नोटिस के अवलोकन से पता चलता है कि उसने 20 जून से Oyo के बहिष्कार और उसके कमरों की बुकिंग बंद करने जैसे कदम उठाकर सभी होटलों से Oyo के खिलाफ विरोध का आह्वान किया है।