नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के अकादमिक सत्र 2019-20 में दूसरी स्ट्रीम में दाखिले के लिए आवेदन करने पर पांच अंक कटेंगे। डीयू प्रशासन यह व्यवस्था सभी कॉलेजों में समान रूप से लागू करने की तैयारी कर रहा है। पिछले साल तक कॉलेजों ने अलग-अलग नियम तय कर रखे थे। वे बेस्ट ऑफ फाइव विषयों में से पांच से दस अंक तक कटते थे।

डीयू की दाखिला समिति के अध्यक्ष व स्टूडेंट वेलफेयर के डीन राजीव गुप्ता ने कहा कि हमारी कोशिश है कि इस वर्ष हम डीयू से संबद्ध सभी कॉलेजों में एकसमान व्यवस्था लागू कर दें। यदि छात्र स्ट्रीम बदलेंगे तो बेस्ट ऑफ फाइव विषयों के कुल अंकों में से पांच अंक (2 फीसद) ही कटेंगे।

उदाहरण के तौर पर अगर किसी ने फिजिक्स, केमिस्ट्री व गणित जैसे विषयों से 12वीं पास की है और वह बीकॉम ऑनर्स व इकोनॉमिक्स ऑनर्स में दाखिले के लिए आवेदन करता है तो बेस्ट ऑफ फाइव विषय के कुल अंकों (500) से पांच अंक कट जाएंगे। यानी छात्र के 97 फीसद अंक आए हैं तो उसके दो फीसद अंक कटेंगे और कटऑफ 95 फीसद पर निर्धारित होगा।

मानविकी, विज्ञान व कॉमर्स स्ट्रीम से 12वीं कर रहे छात्रों के लिए सभी कॉलेजों में यह व्यवस्था लागू करने की तैयारी की जा रही है। पिछले वर्ष तक डीयू के सभी कॉलेज अपने-अपने हिसाब से कटऑफ तय करते हुए दाखिला लेते थे।

डीयू की अकादमिक परिषद के पूर्व सदस्य प्रो. हंसराज सुमन ने बताया कि हर कॉलेज में अलग-अलग तरह से नंबर काटे जाते थे। 12वीं से साइंस कर रहे छात्र को यदि इकोनॉमिक्स ऑनर्स में दाखिला लेना होता था तो किसी कॉलेज में उसके 2.5 फीसद तो किसी कॉलेज में 3 फीसद अंक कटते थे।