नई दिल्ली। मुंबई के एक वकील ने कृपाण लेकर सुप्रीम कोर्ट में नहीं घुसने देने पर प्रधान न्यायाधीश से शिकायत की है। सर्वोच्च अदालत उनकी शिकायत पर सुनवाई करने के लिए तैयार हो गई है। वकील अमृतपाल सिंह खालसा ने कहा कि देश के संविधान ने उन्हें अपने धर्म का पालन करने का अधिकार दिया है। लेकिन जब भी वह कृपाण लेकर सुप्रीम कोर्ट आते हैं तो सुरक्षा अधिकारी उन्हें घुसने नहीं देते। हर बार उन्हें अपमानित और प्रताड़ित किया जाता है।

सुरक्षा गार्ड कहते हैं कि उनके कृपाण की लंबाई तय मानक से ज्यादा है। जबकि, कानून में कृपाण की लंबाई को लेकर किसी तरह की पाबंदी नहीं है। उन्होंने प्रधान न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ के सामने इस मामले का समाधान करने की अपील की।

पीठ ने इस मामले पर गौर करने का भरोसा दिलाया। खालसा ने मांग की है कि उन्हें कृपाण के साथ कोर्ट परिसर में घुसने देने के लिए सुरक्षा विभाग को निर्देश जारी किया जाए।