रामपुर। लोकसभा चुनाव के दौरान अपने विवादित बयानों के कारण समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता और रामपुर से प्रत्याशी आजम खान मुश्किल में फंस गए हैं। आजम खान ने भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की है, जिसके बाद राष्ट्रीय महिला आयोग ने नोटिस जारी किया है। साथ ही उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हो चुकी है। (नीचे जानिए क्या है यह पूरा मामला) इस बीच, आजम का एक अन्य वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वे एक सरकारी अधिकारी को डांटते नजर आ रहे हैं। आजम कह रहे हैं कि वे उस अधिकारी से मायावती के जूते साफ करवाएंगे। (वीडियो देखें) मांग उठ रही है कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश को आजम खान के खिलाफ कार्रवाई करना चाहिए। वहीं भाजपा भी हमलावर हो गई है। आजम की इन बातों पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'मुलायम भाई, आप पितामह हैं समाजवादी पार्टी के। आपके सामने रामपुर में द्रौपदी का चीरहरण हो रहा है। आप भीष्म की तरह मौन साधने की गलती मत करिए।' वहीं पूर्व सपा महासचिव अमर सिंह ने आजम खान को राक्षस कहा है।

आजम के इस बयान को लेकर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा है कि महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी की जा रही है और सपा नेता चुप बैठे हैं। मैं उनसे अपील करती हूं कि चुनाव अपनी जगह हैं और महिलाओं का इस देश में सम्मान अपनी जगह।

वहीं यूपी के मुख्य चुनाव आयुक्त बीआर तिवारी ने कहा कि हमने आजम खान के बयान पर संज्ञान लिया है और संबंधित जिला अधिकारी को रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कहा है। हमे जल्द रिपोर्ट मिलेगी, डीएम से मिली जानकारी के अनुसार आजम खान के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हो चुकी है।

जयप्रदा के खिलाफ कही थी ऐसी बात

आजम खान और जयाप्रदा की दुश्मनी पुरानी है। दोनों एक ही पार्टी में रहे, एक ही क्षेत्र से विधायक और सांसद रहे, लेकिन दोनों के रिश्तों में हमेशा खटास रही। हाल ही में एक चुनावी रैली में आजम ने नाम लिए बगैर कहा था कि बाकी लोग उन्हें 17 साल से नहीं पहचान पाए, लेकिन वे सात दिन में ही पहचान गए थे। (माना जा रहा है कि आजम ने यह टिप्पणी जयाप्रदा के लिए की है।) इसके साथ ही उन्होंने अमर्यादित शब्दों का इस्तेमाल भी किया।

जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिह के मुताबिक, आजम की सभा का वीडियो देखा जा रहा है और टीम से रिपोर्ट मांगी गई है। यह रिपोर्ट आयोग को रिपोर्ट भेजी जाएगी। कार्रवाई भी की जाएगी। आजम खां, समीना बेगम, अरशद वारसी को नोटिस जारी किया है। इनके खिलाफ आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं।

आजम की सफाई- मैंने किसी का नाम नहीं लिया

विवाद ने तूल पकड़ा तो आजम खान सफाई देने आगे आए। उन्होंने कहा, मैंने किसी का नाम नहीं लिया है। यदि कोई साबित कर दे कि मैंने किसी का नाम लिया और उसकी इंसल्ट की तो मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा।

भड़कीं जयाप्रदा, कहा- आजम के चुनाव लड़ने पर लगे रोक

इस घटनाक्रम के बाद जयाप्रदा ने कहा कि आजम खान के चुनाव लड़ने पर रोक लगना चाहिए,क्योंकि वे जीत गए तो लोकतंत्र का क्या होगा? समाज में महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं होगी। हम क्या जाएंगे? क्या मैं अपनी जान दे दूं तब आपको संतोष होगा। आप सोचते हैं कि मैं डर जाऊंगी और रामपुर छोड़ दूंगी, लेकिन ऐसा नहीं होगा।

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता शीला दीक्षित ने कहा है कि आजम खान का बयान बेदद निंदनीय है। उन्हें तुरंत माफी मांगना चाहिए और उनके खिलाफ सख्त कदम उठाया जाना चाहिए।